प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। ग्रेटर नोएडा के 85 गांवों में सीवर लाइन नहीं होने को लेकर एनजीटी ने बड़ा फैसला लिया। एनजीटी ने इस प्रकरण पर सुनवाई करते हुए ग्रेटर नोएडा में ज्वाइंट कमेटी से तीन महीने के अंदर एक्शन टेकिंग रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा है। पर्यावरण विद एवं एडवोकेट आकाश वशिष्टï ने यह जानकारी दी।
उन्होंने बताया कि ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में 90 गांव है। इनमें से करीब 85 ऐसे गांव है जिनकी जमीन ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने अधिग्रहण कर ली। जमीन के अधिग्रहण के बाद भी इन गांवों में सीवर की समस्या को दूर नहीं किया गया है। ऐसे में गांव में जो तालाब है उनमें घरों का गंदा पानी एकत्र होने से नई समस्या पैदा हो गई है। इस मामले में एनजीटी ने सुनवाई की है। एनजीटी ने इसके लिए ज्वाइंट कमेटी का गठन कर तीन महीने के अंदर एक्शन टेकिंग रिपोर्ट मांगी है। एनजीटी ने ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के सीईओ को एक्शन टेकिंग रिपोर्ट के साथ तीन महीने के अंदर पेश होने को कहा है। एनजीटी का कहना है कि जब गांवों की जमीन ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ले चुकी है तो गांवों में विकास कर उन्हें भी साथ लेना होगा। ताकी गांवों की आबादी को राहत मिले। एक्सन टेकिंग रिपोर्ट बनाने के लिए एक ज्वाइंट कमेटी भी गठित की है। इसमें केंद्रीय नियंत्रण बोर्ड, क्षेत्रीय प्रदूषण नियंतत्रण विभाग, ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी, डीएम गौतमबुद्घनगर को शामिल किया गया है।