नोएडा (युगकरवट)। उत्तर प्रदेश शासन के निर्देशों के अनुसार नोएडा मे 6725 कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना की गई है। इसके अलावा औद्योगिक इकाईयों द्वारा 485 आइसोलेशन सेंटर बनाए गए हैं। इन आइसोलेशन सेंटर में बेडों की संख्या 1439 है। सीईओ रितु माहेश्वरी ने औद्योगिक इकाइयों की तारीफ की।
रितु माहेश्वरी ने बताया कि कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए शासन ने निर्देश दिए थे कि सभी निवासियों को यथासंभव प्राथमिक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाएं। शासन की मंशा के अनुरूप ही 14 मई तक 6725 कोविड हेल्थ डेस्क की स्थापना की गई है। इन प्रत्येक हेल्प डेस्क में कर्मचारियों के तापमान मापने हेतु थर्मल स्कैनर, पल्स ऑक्सीमीटर तथा सैनिटाइजर इत्यादि की सुविधाएं उपलब्ध हैं। कोरोना गाइडलाइन के अनुसार औद्योगिक इकाइयों में प्रवेश करने वाले प्रत्येक कर्मचारियों को हेल्प डेस्क के माध्यम से स्क्रीनिंग के उपरांत ही प्रवेश दिया जाता है। सीईओ ने बताया कि नोएडा प्राधिकरण द्वारा औद्योगिक इकाइयों को अपने अपने यहां आइसोलेशन वार्ड बनाने के लिए प्रेरित किया गया था। वर्तमान में नोएडा की फैक्ट्रियों में 485 आइसोलेशन सेंटर कार्यशील किए गए हैं। प्रत्येक आइसोलेशन सेंटर में आवश्यक चिकित्सा सुविधाएं, चिकित्सा परामर्श हेतु आवश्यक पैरामेडिकल स्टाफ उपलब्ध है।
इन आइसोलेशन सेंटर में भर्ती होने वाले श्रमिकों को प्रारंभिक उपचार व आवश्यक परामर्श उपलब्ध कराया जाता है। इन आइसोलेशन सेंटर का प्रमुख उद्देश्य उद्योगों में कार्यरत श्रमिकों को सही समय पर सही उपचार व परामर्श देना है।