युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। इंदिरापुरम कॉलोनी में 239 करोड़ रुपये की लागत से अंडर ग्राउंड वॉटर बचाने के लिए रिसाइकल वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट बनेगा। इसके लिए निगम प्रशासन की ओर से टेंडर डालने के लिए नैशनल बिड़ मांगी है। आज कंपनियों के लिए इसके लिए टेंडर डालने का अंतिम दिन है। कल से टेंडर खोलने का कार्य शुरू किया जाएगा।
पिछले महीने इस प्रोजैक्ट के लिए टेंडर मांगे गए थे। टेंडर खोलने आदि को लेकर नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने कमेटी बनाई है। कमेटी सूरत की एक कंसलटेंट कंपनी को भी शामिल गया है। गाजियाबाद यूपी का ऐसा दूसरा शहर है जहां अंडर ग्राउंड वॉटर बचाने के लिए नगर निगम कोशिश में लगा है।
निगम जो पानी सीवर लाइन से इंदिरापुरम के ट्रीटमेंट प्लांट पहुंचता है उस पानी को ही और साफ करने के लिए नगर निगम प्रशासन 239 करोड़ रुपये की लागत से रिसाइकल प्लांट लगाने जा रहा है। इस प्लांट की क्षमता करीब 40 एमएलडी होगी। सीवर के पानी को इतना साफ किया जाएगा कि उसे साइट चार की इंडस्ट्री में यूज किया जा सकेगा।
देश में इस तरह की तकनीकी कम है। ऐसा एक प्लांट गुजरात और एक मुंबई में लगा है। तीसरा प्लांट लखनऊ में लगाया जा रहा है। इस प्लांट के गाजियाबाद में लगने वाला देश का यह चौथा प्लांट है। इस प्लांट को गाजियाबाद में लगाने के लिए पिछले महीने नगर निगम ने टेंडर मांगे थे।
पहले यह इसी महीने की तीन तारीख को खोले जाने थे। मगर बाद में इनकी तारीख बढ़ाकर 15 नवंबर कर दी है। जलकल विभाग के जीएम योगेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि कल से टेंडर खोलने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। तब ही पता चलेगा कि कितनी कंपनियों ने इसमें हिस्सा लिया और इसमें कितनी विदेशी कंपनियां शामिल है।