युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। हर वर्ष की तरह इस बार भी आज यानी तीस मई को भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों को श्रद्घांजलि दी गई। प्रथम स्वतंत्रता संग्राम 1857 शहीद स्मारक समिति की ओर से नया बस अड्डा स्थित शहीद स्मारक पर आयोजित कार्यक्रम में समिति के मुख्य संयोजक व पूर्व चेयरमैन रामआसरे शर्मा के नेतृत्व में लोगों ने शहीदों को नमन किया। 30 मई 1857 को हिंडन के तट पर अंग्रेज और भारतीय सेना के बीच भीषण युद्ध हुआ था, जिसमें अनेक भारतीय शहीद हुए थे। शहीद स्मारक समिति की ओर से हर वर्ष 30 मई को यहां श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया जाता है।
समिति के अध्यक्ष पंडित रामआसरे शर्मा ने बताया कि यह कार्यक्रम 21 वर्षों से लगातार किया जा रहा है समिति जीडीए से लगातार मांग करती आई है कि हिंडन नदी के किनारे ऐतिहासिक शहीद स्थल बनाया जाए लेकिन इस पर सुनवाई नहीं हो रही है। समिति के मीडिया प्रभारी बीके शर्मा हनुमान ने कहा कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अपने प्राण न्योछावर करने वाले शहीदों की कुर्बानी को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। समिति के महामंत्री पी एन गर्ग, उपाध्यक्ष देवदत्त त्यागी, अरुण भुल्लन, नवीन पोले, सौरभ मित्तल, चतर सिंह, मुल्तान शर्मा, मनोज चौधरी, नरेंद्र त्यागी, मुकेश, डंपी शमार्, चांद सिंह, रामबीर, मयंक शमार्, देवेंद्र सिसोदिया, मनीष कुमार, शशि कांत मिश्रा, सहदेव शर्मा, गौरव कटोरिया, पूर्ण कोशिक, संतोष दीक्षित, जितेंद्र जिंदल, बबलू त्यागी, विनीता पाल, प्रमोद हितेषी, सगीर अहमद, हिमांशु शर्मा, आदि लोगों ने श्रद्धांजलि दी।