वरिष्ठ संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेसियों ने महंगाई और बेरोजगारी को बड़ा मुद्दा बनाकर रणनीति तैयार कर ली है। इसी श्रंृखला में पार्टी हाईकमान ने अपनी आगामी रणनीति को अमली जामा पहनाना भी शुरू कर दिया है। 17 से 23 अगस्त तक कांग्रेस की चौपालें आयोजित की जाएंगी। चौपालों में चर्चा का मुद्दा महंगाई और बेरोजगारी होगा। आगामी 28 अगस्त को कांग्रेस पार्टी दिल्ली के रामलीला मैदान में ‘महंगाई पर हल्लाबोल’ महारैली आयोजित करने जा रही है। महारैली में देश भर से कांग्रेसी नेताओं को बुलाया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष एवं सांसद राहुल गांधी, राष्ट्रीय महासचिव एवं यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी समेत तमाम कांग्रेस के बड़े नेता महारैली के मंच पर पहुंचकर केंद्र की मोदी सरकार पर हल्ला बोलते नजर आएंगे।
महंगाई और बेरोजगारी की लड़ाई को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस पार्टी ने अपनी आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा भी स्पष्ट कर दी है। रणनीति के अनुसार कांग्रेस पार्टी 17 से 23 अगस्त तक जिला, शहर, ब्लॉक, वार्ड स्तर पर महंगाई एवं बेरोजगारी को मुद्दा बनाकर चौपाल लगाएगी। चौपाल जिला एवं महानगर कांग्रेस कमेटियों के नेतृत्व में आयोजित की जाएंगी। चौपाल में आम जनता को यह समझाया जाएगा कि बेरोजगारी और महंगाई के मुद्दे पर भाजपा किस तरह से पूरी तरह से फेल साबित हुई है। ‘महंगाई पर चर्चा’ विषय पर आयोजित इन चौपालों में यह भी बताया जाएगा कि किस तरह से कांग्रेस की मनमोहन सरकार में आवश्यक वस्तुओं के दाम नियंत्रण में थे।