युग करवट संवाददाता
मुरादनगर। उखरालसी श्मशान घाट हादसे के पीडि़त परिवारों द्वारा सरकारी नौकरी, मकान, पीडि़तों के बच्चों की निशुल्क शिक्षा देने, एंव हादसे के दोषियों को सजा दिए जाने की मांग को लेकर पिछले 17 दिन से नगर पालिका परिषद कार्यालय में चल रहा धरना मांगे पूरी नहीं होने के कारण आज यानी गुरुवार से आमरण अनशन में तब्दील हो गया है। पीडि़ता निधि सोनी व पुष्पलता आज से आमरण अनशन की शुरुआत कर भूख हड़ताल पर बैठ गईं हैं। धरनारत महिलाओं का कहना है कि मांगे पूरी न होने तक आमरण अनशन जारी रहेगा। बता दें कि श्मशान घाट हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजन अपनी मांगों को लेकर 17 दिन से नगर पालिका परिषद कार्यालय परिसर में धरना दे रहे है। धरनारतों का कहना है कि अभी तक कोई भी प्रशासनिक अधिकारी उनसे मिलने नहीं आया है। पीडि़त ही दो बार गाजियाबाद जाकर अधिकारियों से मिलकर अपनी मांग पूरी करने की गुहार लगा चुके हैं। पीडि़तों का कहना है कि हादसे के बाद शासन द्वारा ही घोषणा की गई थी, लेकिन अभी तक पूरी नहीं हुई है। इतना ही नहीं अभी हादसे के असली दोषीयों पर कोई कार्यवाई नहीं हुई है।