युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। जनपद में समयावधि पूरी हो जाने पर गाजियाबाद से तैनात ११ एसएचओ सहित ३१ निरीक्षकों का तबादला गैर जनपद में हो गया था। वहीं गैर जनपद से ट्रांसफर हुए २६ निरीक्षकों को गाजियाबाद में आमद करनी है। सूत्रों की माने तो कप्तान पवन कुमार को एसएचओ विहीन चले रहे थानों में किसी ना किसी इंस्पेक्टर की पोस्टिंग प्रभारी निरीक्षक के रूप में करनी है और इसपर मंथन करना भी शुरू कर दिया है। सूत्रों की माने तो बाहर से आने वाले आधा दर्जन निरीक्षकों को विभिन्न थानों के एसएचओ की कुर्सी मिल सकती है, जबकि जनपद में तैनात कम से कम पांच निरीक्षकों को भी थानों के प्रभारी निरीक्षकों की कुर्सी मिल सकती है। वहीं जिन निरीक्षकों को थानों की कुर्सी नहीं मिल पायेगी उन्हें डीसीआरबी और एएचटीयू जैसी विभिन्न विंग्स में तैनात किया जायेगा। सूत्रों का कहना है कि थाना प्रभारी निरीक्षकों की फाइल लिस्ट बनने से पहले ही जनपद में तैनात और बाहर से आने वाले कुछ निरीक्षकों ने तो मलाईदार थानों की कुर्सी पाने के लिये जुगाड़ लगाना भी शुरू कर दिया है। सूत्रों का यह भी कहना है कि गैर जनपद से स्थानांतरित होकर आ रहे अल्पसंख्यक समुदाय के दो निरीक्षकों में से या तो दोनों को या फिर एक निरीक्षक को तो थाना प्रभारी निरीक्षक की कुर्सी मिलने के पूरे आसार हैं। अब देखना है यह है कि ईमानदार छवि वाले कप्तान किन मानकों के आधार पर रिक्त चल रहे थानों में एसएचओ एवं विभिन्न प्रकोष्ठों के प्रभारियों का सेलेक्शन करते हैं। बहराल वर्तमान में तो हर कोई निरीक्षक थानों की कुर्सी पर काबिज होने की ेचेष्ठा करता दिखाई दे रहा है।