युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। वर्ष १९७१ के भारत-पाक युद्घ के गवाह और कई पाकिस्तानी टैंकों को नष्टï करने वाले टी-५५ टैंक को अब नया बस अड्डा स्थित शहीद चौक पर आमजन भी देख सकेंगे। केंद्रीय राज्यमंत्री व सांसद वीके सिंह ने आज इस टैंक को लोकार्पण कर इसे जनता को समर्पित किया। साथ ही शहीद स्मारक स्थल पार्क का भी जीर्णाद्घार कार्य के बाद लोकार्पण किया गया। शहीद स्मारक पर वीके सिंह सहित अन्य अतिथियों ने शहीदों को नमन किया। इस दौरान केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने कहा कि चीन द्वारा सीमा पर बनाए जा रहे पुल से भारत को कोई खतरा नहीं है। चीन अपने क्षेत्र में पुल बना रहा है, भारतीय सीमा में वह एक इंच भी नहीं आ सकता। वीके सिंह ने कहा कि जिले का इतिहास काफी पुराना है। १८५७ की लड़ाई में भी जिले के निवासियों ने भाग लेकर अपनी शहादत दी है। उनकी याद में यहां शहीद स्मारक बनाया गया है। इसका भी जीर्णाेद्घार किया गया है। इसके अलावा जिले में शौर्य चक्र से सम्मानित पूर्व सैनिक रहते हैं। इनमें से कई पदक विजेता अब हमारे बीच नहीं हैं। परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र और सेना पदक वाले पूर्व सैनिक यहां रहते हैं। इन वीरों के सम्मान में इस टैंक को जनता के लिए रखा गया है ताकि लोग भारत-पाक युद्घ में शामिल इस टैंक को देखकर अपने देश के वीर जवानों पर और गर्व कर सकें। टी-५५ टैंक का इस्तेमाल सेना ने पूर्वी और पश्चिमी दोनों मोर्चे पर इस्तेमाल किया। पूर्वी मोर्चे पर १०-११ दिसंबर को, नैनाकोट की लड़ाई के दौरान, भारतीय टी-५५ टैंकों ने बिना किसी नुकसान के नौ पाकिस्तानी टैंकों को नष्टï किया। पश्चिमी मोर्चे पर ४-१६ दिसंबर १९७१ के बीच, बसंतर और बारापिंड की लड़ाईयों में पाकिस्तान के करीब ४६ एम ४७ टैंकों को नष्टï किया। इस टैंक का वजन ३६००० किलोग्राम का। नौ मीटर की इसकी लंबाई और ३.३७ मीटर चौड़ाई और ऊंचाई २.४० मीटर है। इसका मुख्य अस्त्र १०० एमएम डी १०टी झीरी गन और माध्यमिक अस्त्र १२.७ एमएम मशीन गन है। इस दौरान डीएम आरके सिंह, एसएसपी पवन कुमार, नगरायुक्त महेंद्र सिंह तंवर, एसपी सिटी निपुण अग्रवाल, अपर नगर आयुक्त आरएन पांडेय, चेयरमैन रीना भाटी, भाजपा नेता मयंक गोयल, पूर्व बैंक कर्मी आरपी सिंह, भाजपा नेता अश्वनी शर्मा, एसीएम सेकेंड निखिल चक्रवर्ती, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.मिथलेश आदि मौजूद रहे।