युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। दस दिन पूर्व लोनी थाना क्षेत्र की डाबर तालाब कॉलोनी में रहने वाले १५ दिन के एक अबोध बच्चे को सौदा ना होने पर हï्यूमन टै्रफिकिंग के संगीन अपराध से जुड़े सफेदपोशों के अंतर्राज्जीय गैंग ने चुरा लिया था। उक्त सनसनीखेज अपराधिक वारदात के खुलासे के लिए एसपी देहात डॉक्टर इरज राजा की अगुवाई व एसएचओ लोनी ओमप्रकाश सिंह के नेतृत्व में पुलिस की कई टीम दिन-रात लगी हुई थीं। आखिरकार पुलिस की मेहनत उस समय रंग लाई जब सूचना के आधार पर लोनी थाना पुलिस ने ना केवल अबोध शिशु को लखनऊ क्षेत्र से सकुशल बरामद कर लिया गया बल्कि बच्चों की तस्करी एवं उनकी खरीद-फरोख्त करने वाले सफेदपोशों के गैंग के ११ महिला-पुरुषों को गिरफ्तार करके इस संगीन वारदात का खुलासा कर दिया। पुलिस के मुताबिक, इस वारदात में बच्चे के माता-पिता विशेषकर उसकी मां की भूमिका भी संदिध रही। सूत्रों के मुताबिक, बच्चों की तस्करी एवं उन्हें चुराकर उनका सौदा मोटी रकम में करने वाले गैंग ने अबोध बच्चे को पहले तो खरीदने का प्रयास किया था लेकिन जब बात सौदे पर अटक गई तो उस गैंग के दो बदमाशों ने अबोध बच्चे को चुरा लिया। इसके बाद बच्चे को लखनऊ क्षेत्र में रहने वाली एक दंपत्ति को साढ़े पाचं लाख में बेच दिया। समाचार लिखे जाने तक पुलिस के आला अफसर पकड़े गये अपराधियों से पूछताछ कर रहे थे।
पुलिस की मानें तो यह गैंग अब तक अनेक बच्चों को बेच चुका है।