युग करवट संवाददाता
बागपत। अपराधियों के लिये खौफ का प्राय: कहे जाने वाले तेज तर्रार एवं ईमानदार एसपी नीरज जादौन अपराध पर अंकुश पाने, कानून व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़ करने और पुलिस को अधिक एक्टिव बनाने के लिये नित नये-नये एक्सपेरिमेंट करते रहते हैं। उनकी एक और नई पहल उस समय सामने आई जब उन्होंने बागपत पुलिस को और अधिक त्वरित बल बनाने के लिये उपनिरीक्षकों के स्थान पर तेज तर्रार एवं चुस्त-दुरुस्त मुख्य आरक्षियों को चौकी प्रभारी बनाने की मुहिम शुरूर करके पूरे पुलिस महकमे को चौंका दिया। इस क्रम में श्री जादौन ने एक सर्कुलर जारी करके ऐसे एक्टिव मुख्य आरक्षियों से आवेदन मांगे हैं जो स्वेच्छा से चौकी प्रभारी का दायित्व उठाना चाहते हैं। श्री जादौन ने अपने पत्र में यह भी कहा कि चौकी प्रभारी बनने वाले मुख्य आरक्षी २२ अप्रैल तक उनके गोपनीय कार्यालय में जमा करवा सकते हैं। इस संदर्भ में श्री जादौन ने बताया कि उन्होंने प्रतिसार निरीक्षक और समस्त सीओ, एएसपी और थाना प्रभारियों को निर्देशित किया है कि वो ऐसे आरक्षियों के आवेदन लेना शुरू कर दें जो स्वेच्छा से चौकी प्रभारी बनना चाहते हैं। कप्तान की इस पहल के बाद जहां मुख्य आरक्षियों के चेहरे पर बड़ी सी मुस्कान दिखाई देने लगी वहीं ऐसे दरोगाओं के मंसूबों पर पानी फिर गया जो दरोगा होने की वजह से बिना कुछ करे ही चौकी प्रभारी के पद पर बैठकर मलाई खाने की फिराक में लगे रहते थे। सूत्रों की माने तो कप्तान ने बागपत में इस नई पहल को शुरू करके जहां एक मिसाल पेश करने का काम किया, वहीं उत्तर प्रदेश पुलिस के अतिहास में इस कवायद की वजह से उन्होंने मील का पत्थर भी स्थापित कर दिया।