युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। तेल के खेल को लेकर नगर निगम के हेल्थ विभाग में जंग तेज हो गई है। इसी जंग के चलते शहर से अब पूरा कूड़ा नहीं उठाया जा रहा है। इससे तमाम तरह की बीमारियों के फैलने का खतरा पैदा हो गया है। विवाद तब बढ़ा जब नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक आदेश जारी किया गया। जिसके आधार पर अब कूड़ा उठाने वाले वाहनों को किलोमीटर के हिसाब से डीजल दिया जाएगा। इस आदेश के जारी होते ही विवाद पैदा हो गया है। किलोमीटर के हिसाब से डीजल के जारी हुए आदेश को लेकर अब वाहन चालक नगर निगम के हेल्थ विभाग के खिलाफ लामबंद हो रहे है। हाल यह है कि शहर से हर रोज पूरा कूड़ा नहीं उठ पा रहा है। इस मामले में कई शिकायत रोज नगर निगम पहुंच रही है। इससे शहर में गंदगी की स्थिति पैदा हो गई। हेल्थ विभाग भी मान रहा है कि शहर से हर रोज कूड़ा नहीं उठाया जा रहा है। इसके बाद निगम के हेल्थ विभाग ने दूसरा आदेश किया। सभी वाहन चालकों से कहा गया कि वह हर रोज पांच चक्कर कूड़ा उठाएंगे। सूत्रों का दावा है कि नगर निगम के कई वाहन चालकों ने इस आदेश को भी ठेंगा दिखा दिया। एक वाहन चालक ने बताया कि नगर निगम प्रतिकिलोमीटर के हिसाब से कूड़ा उठाने वाले वाहनों को डीजल दे रहा है। पहले गाड़ी अपने किलोमीटर पूरा करती है इसके बाद मीटर में रीडिंग देखकर वाहन चालक को डीजल दिया जाता है। ऐसे में कई बार अपनी जेब से लोगों को डीजल पहले वाहन में डलवाना पड़ता है इसके बाद निगम डीजल देता है। इसी के चलते कई वाहन चालक कूड़ा ढोने के पांच चक्कर नहीं लगा रहे हंै।