युुग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। इस महीने से ही शहर के लोगों को सर्वेयर कंपनी द्वारा तैयार टैक्स के बिल मिलने शुरू हो जाएंगे। सेटेलाइट इमेजिंग सर्वे से प्रॉपर्टी का सर्वे कर यह बिल तैयार किए गए है। रिपोर्ट है कि इन बिलों में दस से लेकर 50 प्रतिशत तक ईजाफा हो रहा है। निगम की ओर से जारी होने वाले इन बिलों को देखकर लोग घबराए नहीं। अगर लगता है कि उनकी प्रॉपर्टी पर हाउस टैक्स का अधिक बिल आया है तो इस मामले में नोटिस मिलने के तीस दिनों के अंदर आपत्ति दर्ज कराए। निगम लोगों को सुनवाई का मौका देगा। इसके बाद ही प्रॉपर्टी टैक्स को नए सिरे से फिक्स कर फाइनल नोटिस जारी किया जाएगा। मुख्यकर निर्धारण अधिकारी डॉ0 संजीव सिन्हा ने बताया कि अभी तक करीब 45 हजार प्रॉपर्टी के सर्वेयर कंपनी बिल तैयार कर निगम को दे चुकी है। निगम इनका वितरण कर रहा है। जल्दी ही हो सकता है कि लोगों के पास हाउस टैक्स के यह बिल पहुंचने शुरू हो जाएंगे। अगर किसी को लगता है कि हाउस टैक्स अधिक है तो वह नोटिस मिलने के तीस दिनों के अंदर अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते है।पहले निगम ने निर्णय लिया था कि 25 प्रतिशत या इससे अधिक जिनका टैक्स बढ़ा है उन नोटिसों पर सुनवाई की जाएगी। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने बताया कि अब सभी नोटिसों पर सुनवाई की जाएगी, मगर इसके लिए भवन स्वामी को आपत्ति दर्ज कराना अनिवार्य होगा।