युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। मेरठ रोड तिराहा स्थित आरआरटीएस के मल्टीयूज स्टेशन को नया बस अड्डा मेट्रो से जोडऩे के लिए अलग से रैंप-वे बनाया जाएगा। इसके लिए आरआरटीएस और डीएमआरसी के बीच सैद्घांतिक तौर पर सहमति बन गई है। इसका फायदा हाईस्पीड ट्रेन और मेट्रो में सफर करने वाले मुसाफिरों को होगा। पहले चरण में साहिबाबाद से लेकर दुहाई तक करीब 17 किलोमीटर लंबे हाईस्पीड ट्रेन के ट्रैक को तैयार किया जा रहा है। सितंबर 2023 से इस रूट पर हाईस्पीड ट्रेन चलने का कार्य शुरू हो जाएगा। यह पहला ऐसा रूट होगा जिसके जरिए केवल एक जगह ही हाईस्पीड ट्रेन की सुविधा को मेट्रो से लिंक किया जा सकता है। पहले चरण में मेरठ रोड तिराहे पर हाईस्पीड ट्रेन के लिए बन रहे स्टेशन को रैंपवे बनाकर मेट्रो से स्टेशन से जोड़ा जाएगा। डीएमआरसी और आरआरटीएस के बीच इस पर सहमति बनने की खबर है। इसका बड़ा फायदा मेट्रो और हाईस्पीड ट्रेन के मुसाफिरों को मिलेगा। दूसरे चरण में हाईस्पीड ट्रेन को मेट्रो सेवा से कई जगह जोडऩे का प्लान है। मगर हाईस्पीड ट्रेन का वह रूट वर्ष 2025 में शुरू होगा। आरआरटीएस सूत्रों का कहना है कि मेट्रो स्टेशन के हाईस्पीड ट्रेन के स्टेशन से लिंक होने का प्लान तैयार हो गया है।
मामलों में लिप्त रहा है।