युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। शहर में पन्द्रह वर्ष के लिए होर्डिंग का ठेका छोडऩे के मामले को लेकर एक और विवाद हाईकोर्ट पहुंच गया है। वहीं नगर निगम और कंपनी के बीच होर्डिंग के ठेके को लेकर अनुबंध भी साइन हो गया है। इससे विवाद के ओर बढऩे की संभावना है।
हाल ही में शहर में होर्डिंग का ठेका पन्द्रह वर्ष के लिए देने को लेकर पहले से ही विवाद चला आ रहा है। इस कथित घोटाले को लेकर पहले विवाद शासन तक पहुंचा अब विवाद हाईकोर्ट की इलाहबाद खंड़पीठ तक पहुंच गया है। इस मामले में पार्षद हिमांशु मित्तल की ओर से नगर निगम के खिलाफ एक रिट हाईकोर्ट में फाइल की गई है।
इसमें आरोप लगाया गया कि नगर निगम ने ठेका छोडऩे से पहले इस संबंध में कोई भी प्रस्ताव निगम बोर्ड की बैठक में पेश कर सहमति हासिल नहीं की है। दूसरा आरोप है कि निगम अधिनियम 2008 के तहत निगम को दो वर्ष से अधिक के लिए ठेका नहीं छोड़ा जा सकता है। जबकि नगर निगम ने 15 वर्ष के लिए ठेका छोड़ा है। विवाद के बीच नगर निगम ने ठेका कंपनी के साथ अनुबंध कर दिया है। इससे विवाद के और बढऩे की संभावना पैदा हो गई है। उधर नगर निगम के अधिकारियों ने इस पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।