नोएडा (युग करवट)। स्क्रैप व सरिया माफिया रवि काना की महिला मैनेजर काजल की 24 घंटे की पुलिस रिमांड अवधि आज दोपहर पुरी हो गई। पूछताछ के दौरान पुलिस ने काजल से स्क्रैप माफिया के गिरोह के सदस्यों के काम, कैश कलेक्शन और उसके बंटवारे के संबंध में सवाल पूछे। काजल द्वारा दिए गए जवाब से पुलिस को रवि, उसकी संपत्ति व कमाई के बारे में अहम जानकारी मिली है।
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक काजल की रिमांड के लिए अप्लाई करने के बाद पुलिस ने सौ ऐसे सवालों की सूची तैयार कर ली थी जो स्क्रैप माफिया और उसके गिरोह से संबंधित थे। नालेज पार्क कोतवाली पुलिस शुक्रवार को काजल को रिमांड पर लेकर आई। प्रारंभिक सवालों में काजल ने पुलिस को गोलमोल जवाब दिए। हालांकि बाद में वह टूटने लगी और स्क्रैप माफिया के काले कारनामे सिलसिलेवार तरीके से उजागर करने शुरू कर दिए। उसने गिरोह में अपनी भूमिका के साथ ही महकी और आजाद समेत करीब 20 सदस्यों के बारे में अहम जानकारी दी। बेनामी संपत्ति और करोड़ों के कैश संबंधी राज भी उसने इस दौरान उगले। काजल से मिले जवाब के आधार पर पुलिस जांच को आगे बढ़ाएगी। साथ ही जिन संपत्तियों के बारे में जानकारी मिली है उसे जब्त करने की कार्रवाई की जाएगी।
पूछताछ के दौरान सवाल जैसे-जैसे कड़े होते गए काजल के चेहरे का रंग उडऩे लगा। शुरुआती घंटे में तीखे सवालों पर वह कभी मौन तो कभी गुमसुम रही। हालांकि पुलिस ने इस दौरान उससे कई राज उगलवा लिए। पूछताछ में यह भी पता चला कि उसने कहां-कहां पर संपत्ति अर्जित की है। कई वाहनों व धंधे के बारे में भी जानकारी मिली। काजल को लेकर पुलिस जेपी ग्रींस स्थित फ्लैट पर भी गई। जहां पर पुलिस को कुछ अहम कागजात मिले हैं। इस दौरान काजल ने कई सनसनीखेज खुलासे किया है। गिरोह को बढ़ाने में किन लोगों ने मदद की काजल ने उनके बारे में बताया है। कई मददगारों के नाम काजल ने पुलिस को बताए हैं। अधिकारियों ने बताया कि इससे पहले भी काजल झा को रिमांड पर लिया गया था। उस दौरान कई सवालों के जवाब अधूरे रह गए थे। अधूरे सवालों के जवाब के लिए पुलिस ने दोबारा से संबंधित न्यायालय में उसकी रिमांड के लिए अर्जी लगाई थी।