थर्ड फ्लोर पर सो रहे दूसरे बेटे को पता ही नहीं चला
प्रमुख अपराध संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। बीती रात लोनी बॉर्डर थाना क्षेत्र की गुलाब वाटिका कॉलोनी में रहने वाली ६५ वर्षीय मां यशोदा देवी व उनके दिव्यांग पुत्र बिजेंद्र की हत्या चाकू से गोदकर कर दी गई। यहां ताज्जुब की बात यह है कि मां-बेटेे की नृशंस हत्या का पता घटनास्थल के ऊपर वाले कमरे में मृतका का बड़ा पुत्र धर्मेंद्र भी पत्नी व बच्चों के साथ सो रहा था लेकिन उन्हें डबल मर्ड की भनक तक नहीं लगी। डबल मर्डर की सूचना मिलते ही एसओ लोनी बॉर्डर कृष्ण कुमार शर्मा फोरेंसिक टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर जांच में जुट गये। डीसीपी रूरल विवेकचंद्र यादव व एसीपी अंकुर विहार भास्कर वर्मा ने भी घटनास्थल का जायजा लिया। इस वारदात के संदर्भ में एसीपी अंकुर विहार भास्कर वर्मा ने बताया कि लोनी बॉर्डर थाना पुलिस को सूचना मिली थी कि गुलाब वाटिका में रहने वाली यशोदा देवी और उसके बेटे बिजेंद्र का मर्डर किसी ने रात को सोते समय चाकू से गोदकर कर दिया है। पुलिस जब घटनास्थल पर पहुंची तो मृतका के बड़े बेटे ने बताया कि वारदात के बाद हत्यारों ने जेवरात, नगदी व कीमती सामान भी लूटा है। जब सुबह के समय उसके बच्चे दादी व चाचा से मिलने नीचे वाले कमरे में पहुंचे तो उन्होंने दोनों को मरा हुआ पाया। जब उनकी चीख सुनकर वह और उसकी पत्नी नीचे आये तो घर से नकदी और आभूषण भी गायब मिले। मृतका के पुत्र व बहू ने बताया कि उन्हें ऐसा लग रहा है कि लुटेरों ने लूट का विरोध करने पर उनकी मां व भाई को चाकू से गोदकर मार डाला होगा। उन दोनों ने यह भी बताया कि उक्त वारदात का पता उन्हें सुबह जागने पर पता चला।
लोनी बॉर्डर थाना क्षेत्र के गुलाब वाटिका कॉलोनी में रहने वाली 65 वर्षीय यशोदा देवी तीन मंजिल मकान के सेकंड फ्लोर पर सो रही थी। इस दौरान उनका छोटा बेटा विजेंद्र भी कमरे में सो रहा था। जबकि यशोदा देवी का बड़ा बेटा अपने बच्चों के साथ तीसरी मंजिल पर सो रहा था। रात में कुछ चोर घर में घुसे और उन्होंने दूसरी मंजिल पर सो रही यशोदा देवी और विजेंद्र की चाकू मारकर हत्या कर दी।
इस दौरान तीसरी मंजिल पर सो रहे उनके बेटे को इसका एहसास नहीं हुआ। सुबह जाग होने पर घटना के बारे में पता चला। श्री वर्मा ने बताया कि प्राथमिक जांच में जो बात निकलकर सामने आ रही है उससे पता चला है कि विजेंद्र दिव्यांग था और उसके पिता की 10 साल पहले मौत हो चुकी थी। श्री वर्मा ने बताया कि यूं तो पुलिस ने मृतक महिला के बेटे की तहरीर के आधार पर जांच शुरू कर दी है लेकिन पुलिस इस वारदात के खुलासे के लिये लुटेरों के अलावा उन परिजनों व परिचितों को भी शक के दायरे में रखकर चल रही है, जो वारदात के समय घर में सो रहे थे। श्री वर्मा ने बताया कि जिसे सामान के चोरी हो जाने अथवा लूटे जाने की बात मृतका के बड़े पुत्र धर्मेंद्र ने पुलिस को बताई थी वो माल व पैसे ही भी घर में ही रखे हुए मिल गये।
श्री वर्मा ने बताया कि इस डबल मर्डर का खुलासा जल्द कर दिया जायेगा। उधर जो चर्चा इस सनसनीखेज वारदात को लेकर घटनास्थल के आस-पास के क्षेत्र में चल रही थी उन पर अगर विश्वास किया जाये तो एक बार फिर खूनी रिश्ते कलंकित हो सकते हैं।