युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। इलैक्ट्रिक बसों के दस रूटों पर 54 बस स्मार्ट स्टैंड बनाए जाएंगे। इसके लिए जल निगम की सीएंडडीएस ने सर्वे कर अपनी रिपोर्ट निगम प्रशासन को सौंप दी है। बसों का संचालन शुरू होने के बाद इन बस स्टैंड को बनाने का कार्य किया जाएगा।
शहर में इलैक्ट्रिक बसों के संचालन के लिए प्रशासन ने खाका तैयार किया है। कल ही लखनऊ में प्रधानमंत्री ने प्रदेश के सभी महानगरों में इलैक्ट्रिक बसों के संचालन का उदघाटन किया है। गाजियाबाद में दूसरे फेज में बसों का संचालन होगा। गाजियाबाद में पहले फेज में 20 बसें चलाई जाएगी। बसों का संचालन कराने का कार्य एक समिति करेगी। इस समिति का नाम एसपीवी रखा गया है।
मंडलायुुक्त इस समिति के अध्यक्ष है। बस संचालन समिति के सीईओ रोडवेज के आरएम एके सिंह है। सदस्य आरटीओ, और डायरेक्टर नगर आयुक्त को बनाया गया है। समिति में सदस्यों के तौर पर डीएम और अन्य अधिकारी शामिल है। गाजियाबाद को पहले फेज में बीस और दूसरे फेज में तीस बसें मिलनी है। कुल मिलाकर गाजियाबाद को 50 ई-बसें मिलेंगी।
बस संचालन के लिए पहले ही डिपो तैयार हो चुका है। चार्जिंग स्टेशन बनाने का कार्य बस ऑपरेट करने वाली कंपनी पीएमआई को करना है। इस कंपनी को बस सप्लाई, चार्जिंग स्टेशन, बुस्ट स्टेशन, और ड्राइवर का खर्च उठाना है। सरकार से पहले ही कंपनी के पास फिक्स चार्ज को लेकर एमओयू साइन हो चुका है।
रोडवेज के आरएम एके सिंह ने बताया कि इन बसों के लिए शहर भर में 54 स्थानों पर स्मार्ट बस स्टैंड बनाए जाने है। इसके लिए जल निगम ने सर्वे कर अपनी रिपोर्ट दी है। इस पर किस मद से पैसा खर्च होगा यह तय जल्दी ही एसपीवी तय करेगी।