नगर संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। गाजियाबाद में स्थित राष्ट्रीय यूनानी चिकित्सा संस्थान के उद्घाटन समारोह के दौरान मंच पर स्थान न मिलने से नाराज राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल कार्यक्रम छोडक़र चले गए थे। इसके बाद उन्होंने पोर्ट, शिपिंग एवं आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल को पत्र लिखकर मामले से अवगत कराया। उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि ढाई बजे राष्ट्रीय यूनानी चिकित्सा संस्थान का उद्घाटन कार्यक्रम था जिसका शुभारंभ पीएम नरेन्द्र मोदी द्वारा वर्चुअल किया जाना था।
उन्होंने पत्र में लिखा कि पहले तो मुझे इस कार्यक्रम का विधिवत निमंत्रण पत्र नहीं भेजा गया था, लेकिन पार्टी एवं पीएम का सम्मान रखते हुए समय पर पहुंचा तो पता चला कि मेरे नाम की सीट मंच पर नहीं थी और ना ही प्रथम पंक्ति में मेरे नाम से सीट थी। मेरे बैठने के लिए जनरल वीके सिंह की सीट पर लगी पर्ची को मेरे समक्ष फाड़ा गया और मुझे उस पर बैठने के लिए कहा गया, जो मुझे अनुचित लगा। राज्यसभा सांसद ने अपने पत्र में कहा कि जनरल वीके सिंह के नाम की पर्ची को इस तरह से फाडऩा उनके प्रति भी अनादर भाव को दर्शाता है। मंच पर मुझसे कनिष्ठ एवं सरकारी अफसरों को बैठाया गया था। कार्यक्रम की इस व्यवस्था को देखकर खेद हुआ और तत्काल कार्यक्रम छोडक़र घर वापस आ गया और वहां संघ के कार्यकर्ताओं के साथ लाइव प्रसारण देखा। उन्होंने पत्र में कहा कि यह विशेषाधिकार हनन एवं अधिकारियों की ओर से अवहेलना का प्रकरण है, इस पर संज्ञान लेकर कार्रवाई की जाए।