प्रमुख अपराध संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। लोनी थाना क्षेत्र के अंतर्गत डीएलएफ चौकी क्षेत्र के मौहल्ला सालेहनगर में मां विंध्यवासिनी ज्वैलर्स के नाम से आभूषणों की दुकान करने वाले सर्राफ शोकेंद्र यादव निवासी करावल नगर दिल्ली की बीती रात लगभग पौने नौ बजे बाइक सवार दो बदमाशों ने गोली मारकर व चाकूओं से गोदकर नृशंस हत्या कर दी थी। वारदात उस समय घटी जब शोकेंद्र यादव अपनी दुकान बंद करके घर जा रहे थे। पहले तो पुलिस व आमजन यह कयास लगा रहे थे कि लूट का विरोध करने पर सर्राफ की हत्या की गई होगी, लेकिन पुलिस ने जैसे ही जांच शुरू की तो मामला लूट का ना होकर रंजिश का दिखाई दिया। इस संदर्भ में एसएसपी मुनिराज जी का कहना है कि वैसे तो यह मामला लूट का ना होकर रंजिश का दिखाई दे रहा है, लेकिन पुलिस इस मर्डर की गुत्थी को सुलझाने के लिये कई ऐंगल पर जांच कर रही है। उन्होंने बताया कि मर्डर की गुत्थी सुलझाने के लिये पुलिस की कई टीम बनाई हैं। साथ ही अधिकारी उस संदिग्ध युवक से भी गहन पूछताछ कर रहे हैं, जिसे लोगों ने पकडक़र पुलिस को सौंपा था। उधर, पुलिस के एक आला अफसर ने यह भी आशंका जताई कि सर्राफ की हत्या के पीछे कोई महिला भी हो सकती है। वहीं, इस सनसनीखेज वारदात के संदर्भ में एसपी देहात डॉक्टर इरज राजा ने बताया कि पुलिस की कई टीम रात भर सर्राफ के हत्यारों को दबोचने के लिये दबिश देने के साथ-साथ अन्य तरह की कवायद भी करती रहीं। श्री राजा ने बताया कि बताया कि उक्त वारदात की रिपोर्ट मृतक सर्राफ के भाई कौशलेंद्र यादव ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ दर्ज करवाई है। श्री राजा ने बताया कि पकड़ में आये अपराधी ने अभी कोई ऐसा कोई ठोस खुलासा नहीं किया है, जिससे यह पता चल सके कि सर्राफ की हत्या के पीछे हत्यारों की क्या मंशा थी। सर्राफ की हत्या के बाद क्षेत्र में हो रही चर्चा में यह बात भी सामने आ रही थी कि जिन्होंने भी शोकेंद्र यादव की हत्या की या करवाई वे सर्राफ से बेइंतहा नफरत करते होंगे। सर्राफ की हत्या किसने और क्यों की और उसके मर्डर के पीछे क्या कारण रहे, खबर लिखे जाने तक पुलिस इन सवालों की गुत्थी को सुलझाने में सफल होती नहीं दिखाई दे रही थी।