मेरठ। (युग करवट) आगामी त्यौहारों को देखते हुए कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह ने मेरठ मंडल के सभी जिलों के पुलिस अधिकारियों के साथ वर्चुअल कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक की, जिसमें अक्टूबर में कई त्यौहारों के अलावा कानून व्यवस्था के बिन्दुओं पर भी चर्चा की गई। बैठक के दौरान मेरठ मंडल में जिलेवार लूट, डकैती, हत्या, पॉक्सो, एससी-एसटी, महिला उत्पीडऩ, गौवध और आबकारी के अपराधों की समीक्षा हुई। मंडलायुक्त सुरेन्द्र सिंह ने कहा कि कानून व्यवस्था के मामले में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं किया जाएगी।
उन्होंने क्षेत्र में शंाति व्यवस्था को सुनिश्चित करने, फुट पैट्रोलिंग को बढ़ाए जाने पर जोर दिया। साथ ही गुंडा एक्ट, गैंगस्टर एक्ट और जिला बदर में की गई कार्रवाई को प्रभावी बनाया जाने के भी निर्देश भी दिए। मंडलायुक्त ने कहा कि सर्दी का मौसम आने वाला है। कोहरे के दौरान सडक़ हादसों की सम्भावना बनी रहती है। इसके लिए उन्होंने मंडल के जिलों के पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने जिलों में सडक़ मार्गों पर सर्दी शुरू होने से पहले ही साइन बोर्ड लगाने की कार्ययोजना को लागू कर दें। आईजी मेरठ रेंज प्रवीण कुमार ने कहा कि सभी सडक़ मार्गों पर रिफलेक्टर लगाना सुनिश्चित कर लिया जाए। अभियोजन कार्यों की समीक्षा बैठक में कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह और आईजी मेरठ रेंज प्रवीण कुमार ने अभियोजन अधिकारियों के साथ कई बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा की। कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह ने कहा कि सभी वादों में प्रभावी पैरवी की जानी चाहिए। कई मामलों में प्रभावी गवाही और साक्ष्यों के आधार पर काईवाई हुई है, लेकिन वो संख्या के हिसाब से काफी कम है। आईजी मेरठ रेंज प्रवीण कुमार ने अभियोजन अधिकारियों से कहा कि न्यू गैंगस्टर एक्ट का अध्ययन कर लें।
इसके अलावा संपत्ति जब्तीकरण, गैंगस्टर एक्ट, पॉक्सो एक्ट, फायर सेफ्टी एक्ट, ड्रग्स एक्ट, एन्वॉयर प्रोटेक्शन एक्ट, महिला संबधि अपराधों और हत्या के मामलों में प्रभावी गवाही और साक्ष्यों के आधार पर अपना पक्ष मजबूती के साथ रखें, ताकि लंबित प्रकरणों का समय से निस्तारण हो सके।