युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। सीजेएम कोर्ट ने अधिवक्ता खालिद खान की याचिका पर गांव नौरसपुर में मृतका सरिता के मामले में पूर्व थानाध्यक्ष सहित पांच लोगों को समन जारी करते हुए दो दिसंबर को कोर्ट में तलब किया है। अधिवक्ता खालिद खान के मुताबिक १३ मई, २०१८ को इंस्पेक्टर श्यामवीर सिंह व दरोगा जितेंद्र सिंह पूर्व प्रधान ललित, राजेश्वर व सन्नी के साथ मिलकर सरिता को उसके घर से अपहरण कर थाने लाए थे और ललित के पिता की हत्या का जुर्म कबूल कराने के लिए गंभीर चोट पहुंचाने के लिए जहर पिला दिया था। खालिद खान ने बताया कि दिल्ली कोर्ट की मजिस्ट्रेट ने मृतका सरिता के पंचनामे में गंभीर शारीरिक चोट लिखी जिसकी पुष्टिï पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुई थी। पीएम रिपोर्ट में मृतका के शरीर में ईथाईल जहर पाए जाने का पता चला। खालिद ने अपनी याचिका में कोर्ट को बताया कि इंस्पेक्टर श्यामवीर सिंह ने सभी सबूत मिटाए और पुलिस ने मामले को रफा-दफा कर एफआर पेश कर दी। लेकिन मृतका की बेटी मेनका त्यागी की ओर से अधिवक्ता खालिद खान की याचिका को सीजेएम गाजियाबाद संदीप चौधरी ने स्वीकार करते हुए इस एफआर को खारिज करते हुए पांच आरोपियों को हत्या करने, सबूत मिटाने आदि के मामले में आरोपी मानकर दो दिसंबर को कोर्ट में पेश होने का आदेश जारी किया है।