युग करवट संवाददाता
नोएडा। दादरी के मीहिर भोज कॉलेज में गुर्जर सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा के अनावरण का विवाद सुलझने का नाम नहीं ले रहा है। गुर्जर बिरादरी के लोगों ने 26 सितंबर को इस मामले में दादरी में महापंचायत कर विरोध का बिगुल बजा दिया। वहीं आज सुबह भाजपा से राज्यसभा सांसद सुरेंद्र नागर ने मिहिर भोज कॉलेज पहुंचकर सम्राट मिहिर भोज के मूर्ति के अनावरण तालिका से हटाए गए गुर्जर शब्द को वापस जोड़ दिया। उन्होंने मूर्ति के सामने पूजा अर्चना भी की। इसके बाद सैकड़ों की संख्या में गुर्जर समुदाय के लोग वहां पर पहुंचे। उन्होंने गंगाजल से गुर्जर सम्राट मिहिर भोज की मूर्ति को धोया, तथा पूजा अर्चना की। इसी बीच वीर गुर्जर महासभा के कुछ कार्यकर्ताओं ने अनावरण पट्टिका से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा भाजपा सांसद सुरेंद्र नागर, विधायक तेजपाल नागर आदि का नाम स्याही से मिटा दिया। गुर्जर समाज के लोगों का कहना है कि इन नेताओं ने गुर्जर बिरादरी का अपमान किया है। उनके अनुसार भाजपा नेताओं का आगामी विधानसभा में इस क्षेत्र में बहिष्कार किया जाएगा। इस बाबत राज्यसभा सांसद सुरेंद्र नागर से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन उनका फोन बंद आ रहा था। जिसकी वजह से उनसे बात नहीं हो पाई। वहीं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजकुमार भाटी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि गुर्जर सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा पर 6 दिनों से पुलिस का पहरा था। लोगों को पुष्प अर्जित तक नहीं करने दिया जा रहा था। आज सुबह जैसे ही पुलिस का पहरा हटा, श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि उनके साथ सपा के जिलाध्यक्ष इंद्र प्रधान, वचन भाटी, नवीन भाटी, श्याम सिंह भाटी, पप्पू प्रमुख, विपिन नागर, राहुल आर्यन, अक्षय पंडित, गोपाल गुर्जर, जगबीर नंबरदार, रोहित बैसोया, कुलदीप भाटी, विकास गुर्जर, प्रशांत भाटी, विक्रांत तोगड़ सहित सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा पर पहुंचे। राजकुमार भाटी ने आरोप लगाया कि भाजपा के लोगों ने रात को गुप-चुप तरीके से सिलापट पर सम्राट मीहिर भोज के आगे गुर्जर शब्द लिखवा दिया। उन्होंने कहा कि गुर्जर समाज के लोग इससे संतुष्ट नहीं है। उनका कहना है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस कृत्य के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगे, और बयान दे कि सम्राट मिहिर भोज गुर्जर ही थे। गुर्जर सम्मान के लिए गठित की गई 151 सदस्यीय राष्ट्रीय गुर्जर स्वाभिमान समिति के सदस्य राजकुमार भाटी ने कहा कि 2 अक्टूबर को ग्रेटर नोएडा के परी चौक पर होने वाली बैठक में तय किया जाएगा कि समाज आगे क्या रणनीति बनाएगा। उन्होंने समाज गुर्जर समाज के लोगों से अपील की है कि वे अलग- अलग बयान जारी ना करें। इससे समाज की एकता को क्षति होती है। उन्होंने कहा कि समाज के सभी साथी समिति के निर्णय का इंतजार करें, और समिति द्वारा लिए गए निर्णय का पालन करें। इस समिति में राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, यूपी समेत पांच प्रदेशों के गुर्जर समाज के लोग शामिल हैं।