युग करवट ब्यूरो
लखनऊ। यूपी विधानसभा सत्र के पहले दिन सपा नेताओं ने पार्टी प्रमुख अध्यक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में पदयात्रा की। सपा नेता व कार्यकर्ता विधानभवन की तरफ बढ़ रहे थे कि उन्हें रास्ते में ही रोक लिया गया। जिस पर नाराज होकर अखिलेश यादव अपने विधायकों व कार्यकर्ताओं के साथ सडक़ पर ही धरने पर बैठ गए। उधर, विधानसभा सत्र की शुरुआत हो गई। इसके पहले मीडिया को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है। रास्ते में ही रोके जाने से नाराज सपाइयों ने सडक़ पर ही छद्म विधानसभा आयोजित कर वंदे मातरम के नारे लगाए और विधायक अरविंद गिरी के निधन पर शोक व्यक्त किया। मार्च के दौरान रूट बदलने से सपाई नाराज हो गए थे। प्रशासन का कहना था कि जीपीओ के बजाय वीवीआईपी गेस्ट हाउस और एनेक्सी होते हुए विधानसभा जाएं। इस पर अखिलेश यादव व सपा विधायक सडक़ पर ही धरने पर बैठ गए। सपा ने बढ़ती महंगाई, किसानों की समस्याओं और कानून व्यवस्था के मुद्दे पर राज्य सरकार के विरोध में इस पदयात्रा का आयोजन किया था। पदयात्रा को लेकर विक्रमादित्य मार्ग को छावनी बना दिया गया। वीवीआईपी चौराहा से लेकर सपा कार्यालय तक बैरिकेडिंग कर भारी संख्या में फोर्स लगा दी गई। इस रास्ते पर आम लोगों का आवागमन बंद कर दिया गया। यूपी विधानसभा का मानसून सत्र आज से शुरू हो गया जो 23 सितंबर तक चलेगा।