युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। रालोद मुखिया जयंत चौधरी और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बीच सीटों का बंटवारा हो गया है सिर्फ घोषणा होनी बाकी है। रालोद की ओर से 13 जनवरी तक ही नाम फाइनल किए जाएंगे। रालोद के पार्टी सूत्रों ने बताया की रालोद 36 से 38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। अधिकांश सीटें फाइनल हो चुकी हैं। आरएलडी के गढ़ बागपत जिले की तीनों सीटें रालोद के पास रहेंगी। इनमें छपरौली, बागपत व बड़ौत हैं। मुजफ्फरनगर जिले की सिर्फ चरथावल सीट सपा को छोड़ी जा रही है। बाकी अन्य सीटें रालोद के खाते में रहेंगी। बागपत की छपरौली, बड़ौत, बागपत सीट रालोद के खाते में बताई जा रही हैं। मुजफ्फरनगर की चरथावल को छोडक़र अन्य सीट रालोद के पास रहेंगी। मेरठ में सिवालखास रालोद के पास बताई जा रही है। जबकि कैंट में पंजाबी समाज के एक कद्दावर नेता रालोद अपने खेमे में शामिल करने के लिए जान लगाए हुए है।
सरधना रालोद को मिलती है तो यहां भी रालोद गुर्जर बिरादरी के एक बड़े नाम को चुनाव लड़ाने की तैयारी में है। शामली में शामली व थाना भवन आरएलडी के पास जानी बताई जा रही हैं। सहारनपुर में गंगोह आरएलडी पर है, देवबंद के लिए खींचतान चल रही है। हापुड़ आरएलडी पर है, गढ़ सीट पर खींचतान अभी भी है। बुलंदशहर में शहर सीट, शिकारपुर व स्याना भी आरएलडी के खाते में बताई जा रही हैं। गाजियाबाद में लोनी, मोदीनगर, गौतमबुद्धनगर की जेवर सीट लोकदल के पास जा रही हैं। मुरादाबाद में कांठ, अमरोहा की नौगवा शादाबाद, बिजनौर की बिजनौर शहर, नूरपुर आरएलडी पर जा रही हैं, नगीना पर खींचतान है। रामपुर, अलीगढ़ व आगरा में पांच सीटें आरएलडी के पास बताई जा रही हैं। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी और सोमपाल शास्त्री के बीच हुई बैठक में सीटों के बंटवारे पर सहमति हुई।