नई दिल्ली। आंदोलन के दौरान किसान की मौतों पर आज कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने संसद में केंद्र सरकार पर निशाना साधा। लोकसभा में राहुल गांधी ने किसानों का मुद्दा उठाते हुए मांग की है कि कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों को मुआवजा दिया जाए। सरकार ने कहा था कि आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों का रेकॉर्ड नहीं है लिहाजा मुआवजे की बात नहीं हो सकती है। इस पर राहुल गांधी ने कहा, आपकी सरकार कह रही है कि कोई किसान शहीद नहीं हुआ है। या आपके पास किसानों के नाम नहीं है। तो ये डेटा मैं आपको देना चाहता हूं।
राहुल गांधी ने कहा, किसान आंदोलन में 700 किसानों की मौत हुई। प्रधानमंत्री मोदी ने देश और किसानों से माफी मांगी। उन्होंने अपनी गलती स्वीकार की। लेकिन कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से जब पूछा गया कि आंदोलन में कितने किसानों की मौत हुई, तो उन्होंने कहा, कोई डेटा नहीं है। राहुल गांधी ने कहा, पंजाब की सरकार ने 400 किसानों को 5 लाख रुपए आर्थिक मदद दी। 152 किसानों के परिजनों को रोजगार दिया गया। हरियाणा के 70 किसानों की इस दौरान मौत हुई है। ये भी रिपोर्ट में दे दूंगा। जो किसानों का हक है, वह उन्हें मिले। कृषि कानूनों को लकेर पीएम मोदी ने माफी मांगी है। अब किसानों को उनका हक मिलना चाहिए। राहुल गांधी ने कहा कि मैं ये लिस्ट हाउस में टेबल करता हूं।