युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। नोएडा का श्रीकांत त्यागी प्रकरण अब अगले मुकाम पर पहुंच चुका है। संयुक्त त्यागी स्वाभिमान मोर्चा गठित कर लिया गया है। इसमें पश्चिमी उत्तर प्रदेश समेत हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तराखंड, दिल्ली के प्रतिनिधी शामिल किए गए हैं। मोर्चे ने 21 अगस्त को नोएडा के गेझा में महा पंचायत का एलान कर दिया है। पंचायत की तैयारी जोर शोर से चल रही है। कई दलों के बडे नेताओं के इसमें शामिल होने की संभावना जताई जा रही है। पंचायत सांसद महेश शर्मा के विरोध में है। तीन दूसरी बड़ी बिरादरियों ने भी सांसद महेश शर्मा के विरुद्घ मोर्चा खोल दिया है। श्रीकांत त्यागी की पत्नी, मामी और बच्चों को न्याय दिलाने के लिए मेरठ में हुई पंचायत में संयुक्त त्यागी स्वाभिमान मोर्चा बनाया गया है। इसमें समाज के सभी संगठनों के प्रतिनिधि शामिल किए गए हैं। इसमें फैसला लिया गया है कि 21 अगस्त को गेझा में महा पंचायत होगी। इसमें भाजपा से दो टूक कहा जाएगा कि या तो सांसद महेश शर्मा के खिलाफ कार्रवाई करें या लोकसभा चुनाव में विरोध सहने को तैयार रहे। इस बीच सांसद महेश शर्मा के सुर भी बदल हुए नजर आए। 6 अगस्त की घटना के बाद श्रीकांत के परिजनों से मिलने पहुंचे युवको को जेल भेज दिया गया था, तब सांसद महेश शर्मा ने उन्हें गुंडे कहा था। अब सांसद महेश शर्मा कह रहे हैं कि बच्चों की जमानत हो गई है। उधर मेरठ के सांसद राजेन्द्र अग्रवाल ने भी इस मामले से पल्ला छाड़ लिया लिया है। सांसद का कहना है कि उन्होने महेश शर्मा को कोई फोन नहीं किया था। स्वाभिमान मोर्चा ने सभी लोगो पर लगे मुकद्दमें वापस लेने, श्रीकांत त्यागी से गैंगस्टर हटाने, उसकी गाड़ी और संपत्ति वापस करने, श्रीकांत की पत्नी और मामी का उत्पीडन करने वाले पुलिसकर्मियों पर एफआई कराने, ओमेक्स सोसायटी में पेड उखाडने वाले लोगों पर रिपार्ट दर्ज कराने की मांग की है। मंगलवार को बिजनौर में हुई विरोध रैली से भाजपा परेशानी बढ़ गई है। आज सुबह हापुड़ के गांव सरावा में भी पंचायत हुई जिसमें सैकड़ों लोग शामिल रहे।