घायल सागर के पास से लूट की रकम, तमंचा, कारतूस व स्कूटी बरामद
प्रमुख अपराध संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। १७ मई को अकबरपुर बहरामपुर में हुई श्यामदत्त की हत्या लूट का विरोध करने पर मेड का काम करने वाली शिवानी, उसके पति सागर व बहन ननद ने पूरी योजना बनाकर कर दी थी। उक्त मर्डर की वारदात का खुलासा करते हुए क्रासिंग रिपब्लिक थाने के एसएचओ रवि बालियान की टीम ने जहां शातिर अपराधी सागर के पैर में गोली मारकर उसे लंगड़ा कर दिया वहीं उसकी पत्नी शिवानी को भी जल प्लांट अंडरपास के पास हुई मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया। जबकि अन्नू पुलिस की पकड़ में नहीं आई। घायल सागर व शिवानी के पास से लूट के रुपये, तमंचा कारतूस, स्कूटी व आला कत्ल बरामद हुआ।
पूछताछ में सागर ने बताया कि उसे शिवानी ने बताया था कि श्यामदत्त के पास हर समय मोटी रकम व सोने के जेवरात रहते हैं। वह पैसे वे जेवरात को तिजोरी में रखता है। इसका पता चलते ही उसने शिवानी व बहन अन्नू के साथ मिलकर श्यामदत्त के यहां लूट की योजना बना डाली। वारदात वाले दिन वो तीनों श्यामदत्त के यहां पहुंच गये। उसके बाद उसने शिवानी को श्यामदत्त की पत्नी हेमलता के साथ एक साजिश के तहत किराये का कमरा देने भेज दिया। उसके बाद उसने अन्नू के साथ मिलकर लूट करनी शुरू कर दी। लूट का विरोध होने पर उन्होंने श्यामदत्त की हत्या कर दी। हत्या के बाद वो दोनों उसकी तिजोरी को तो नहीं खोल पाये हां उसकी जेब में रखे आठ हजार रुपये लेकर मौके से भाग गये।