गाजियाबाद (युग करवट)। डासना स्थित शिवशक्ति धाम में १७ से २१ दिसंबर को विश्व धर्म संसद का आयोजन किया जा रहा है। प्रेसवार्ता में जूना अखाडा के महामंडलेश्वर व शिवशक्ति धाम के पीठाधिश्वर यति नरसिंहा नंद गिरी ने बताया कि देश के प्रधानमंत्री द्वारा जगह-जगह इस्लामिक जिहाद के खतरे पर काम करना चितंनीय हैं। हमास के साथ पूरी दुनिया खडी हो गई लेकिन यहूदियों को जिस बर्बरता से मारा गया, उनके साथ कोई नहीं खड़ा हुआ। अब समय आ गया है कि पूरी दुनिया में गैर मुस्लिम लोग एकजुट होकर इस बर्बरता का जवाब दें। इसको लेकर यह विश्व धर्म संसद का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें पूरी दुनिया से करीब १५ हजार लोगों को पत्र लिखकर निमंत्रण दिया जा रहा है। विश्व धर्म संसद के मुख्य समन्वयक तुफैल चतुर्वेदी ने कहा हम सनातन धर्म के मानने वाले इस्लामिक जिहाद के सबसे निरीह शिकार रहे हैं। इस अवसर पर मुख्य संयोजिका डॉ.उदिता त्यागी, आयोजन समिति के अध्यक्ष अक्षय त्यागी, डासना मंदिर के उत्तराधिकारी राजेश यादव, विनोद सर्वोदय, अनिल यादव, मोहित बजरंगी, नरेन्द्र त्यागी, संजय त्यागी, बृजमोहन सिंह आदि मौजूद रहे।