युग करवट संवाददाता
नोएडा। उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ष 2021 के पेपर लीक होने के मामले की जांच में जुटी एसटीएफ को कई महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे हैं। एसटीएफ उस व्यक्ति का पता लगाने का प्रयास कर रही है, जहां से यह पेपर लीक हुआ है। बताया जाता है कि शिक्षक पात्रता के लिए होने वाली परीक्षा का प्रश्न पत्र छापने वाले व्यक्ति राय अनूप राय को बिना टेंडर के ही 13 करोड़ रुपए का काम दिया गया। उक्त व्यक्ति के पास सिक्योरिटी प्रेस भी नहीं है। बताया जाता है कि अनूप राय काफी प्रभावशाली व्यक्ति है। इसकी बहन बिहार के नरकटियागंज से भाजपा से विधायक है। इसके परिवार मे पुलिस के डीजीपी स्तर के एक अधिकारी भी थे, जिनका अब देहांत हो चुका है। यह जनपद गोरखपुर का रहने वाला है।
एसटीएफ सूत्रों के अनुसार इस मामले में गिरफ्तार किए गए शिक्षा निदेशक संजय उपाध्याय जनपद गाजीपुर के रहने वाले हैं तथा उनकी राय अनूप राय से पुरानी जान पहचान है। सूत्रों के अनुसार शासन में बैठे कुछ आईएएस अफसरों ने इस मामले में घोर लापरवाही बरती तथा राय अनूप राय को प्रश्न पत्र छापने का काम बिना टेंडर के ही दिया गया। सूत्रों का दावा है कि इस मामले में नोएडा के एक नामी समाचार पत्र कै प्रेस में भी प्रश्न पत्र छपा है। इस प्रेस के खिलाफ भी थाना सूरजपुर में मुकदमा दर्ज हुआ है। एसटीएफ यह पता लगाने का प्रयास कर रही है कि जो पेपर लिक हुआ है, वह नोएडा के समाचार पत्र के प्रेस मैं छपाई के दौरान हुआ है या दिल्ली या कोलकाता की प्रिंटिंग प्रेस के छपाई के दौरान हुआ है। एसटीएफ के अनुसार जहां पर उक्त प्रश्न पत्रों को छपवाया गया है, वहां पर सुरक्षा के कोई भी मानक नहीं है। जबकि इस तरह के प्रश्न पत्रों की सिक्योरिटी प्रेस में छपाई की जाती हैं। जहां पर काम करने वाले लोगों की सर्विलांस तथा सीसीटीवी कैमरे की निगरानी सहित, विधिवत तलाशी लेने के बाद उनके कपड़े भी बदलाव आए जाते हैं। चर्चा है कि जल्द ही इस एसटीएफ इस मामले में कुछ आईएएस अफसरों तथा प्रिंटिंग प्रेस के मालिकों की गिरफ्तारी कर सकती है। एसटीएफ ने प्रिंटिंग प्रेस के मालिको तथा इस घोटाले से जुड़े कई लोगों से पूछताछ की है। जल्द ही लखनऊ में बैठे कुछ वरिष्ठ आईएएस अफसरों से भी पूछताछ कर सकती है। चर्चा है कि इस मामले में जल्द ही कुछ बड़ी मछलियां शिकंजी मे आ सकती हैं।
मालूम हो कि इस मामले में एसटीएफ ने इससे पूर्व शिक्षा निदेशक संजीव उपाध्याय को एक दिसंबर तथा दिल्ली के ओखला मे स्थित प्रिंटिंग प्रेस के संचालक और प्रश्न पत्र छपवाने के जिम्मेवार राय अनूप राय को 30 नवम्बर को गिरफ्तार किया है। इससे पूर्व प्रश्नपत्र लीक करने के मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ के दौरान संजीव उपाध्याय तथा अनूप राय ने कई खुलासे किए हैं। उसके आधार पर एसटीएफ अब आगे की जांच कर रही है।