युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने शिक्षकों की ड्यूटी बीएलओ में लगाए जाने का विरोध किया है। शिक्षक संघ ने ज्ञापन सौंपकर डीएम से तत्काल शिक्षकों को बीएलओ ड्यूटी से हटाए जाने की मांग की है। संघ के जिलाध्यक्ष विनोद सिंह यादव ने कहा कि नई शिक्षा नीति २०२० में स्पष्टï उल्लेख है कि शिक्षकों को गैर शैक्षिक कार्यों में नहीं लगाया जाएगा। कोरोना के दौर में पहले से ही स्कूलों में शिक्षण कार्य प्रभावित हुए हैं, अब फिर से शिक्षकों को एक महीने के लिए बीएलओ में तैनात कर दिया गया है। संघ ने बताया कि शिक्षकों को मौखिक रूप से ही यह आदेश दिया गया है कि वह विद्यालय के समय के बाद बीएलओ का काम करेंगे जो पूरी तरह से अवैधानिक है। संघ ने इसका विरोध करते हुए शिक्षकों को बीएलओ कार्य से हटाए जाने की मांग की है। ज्ञापन देने वालों में महेंद्र सिंह नागर, गोविंद कुमार सिंह व राजीव त्यागी आदि शामिल रहे।