युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। फीस निर्धारण को लेकर जारी शासनादेश को लागू कराने की मांग को लेकर ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन ने डीएम को ज्ञापन सौंपा। असपा पदाधिकारियों ने अपने ज्ञापन में कहा है कि कोरोना काल के चलते स्कूल बंद हैं। स्कूलों में खेल, विज्ञान प्रयोगशाला, पुस्तकालय, कम्प्यूटर, वार्षिक महोत्सव आदि अन्य गतिविधियां नहीं हो रही हैं तब तक स्कूल इन गतिविधियों का शुल्क न लें। एसोएिशन की राष्टï्रीय अध्यक्ष शिवानी जैन ने कहा कि अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने २० मई २०२१ को विद्यालय द्वारा लिए जाने वाले शुल्क को नियमित करने को लेकर एक आदेश पारित किया था। इसके अलावा अतिरिक्त गतिविधियों से संबंधी कोई भी शुल्क छात्रों से न लिया जाए। यूपी द्वारा बनाए गए फीस निर्धारिण कानून में स्कूलों में ली जाने वाली फीस के सभी मदों को जोडकर एक ही मद कम्पोजिट एनवल फीस बना दिया गया है। डीआईओएस से जारी आदेश के बाद स्कूलों द्वारा वर्ष २०१९-२० में ली जाने वाली फीस के बराबर ही फीस देने का दबाव अभिभावकों पर बनाया जा रहा है। महासचिव सचिन सोनी ने कहा कि कम्पोजिट फीस में किन-किन मदों को जोड़ा गया है इसका ब्यौरा स्कूलों द्वारा ना तो अभिभावकों को दिया जा रहा है नाहीं डीआईओएस को दिया है। असपा ने ज्ञापन सौंपकर शासनादेश को सख्ती से पालन कराने और नए सत्र की फीस निर्धारण करने की मांग की है। ज्ञापन देने वालों में उपाध्यक्ष तमन्ना खन्ना, अजय मित्तल, तनुज गम्भीर, सुनील कुमार आदि मौजूद रहे।