प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। गाजियाबाद में भी इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनजमेंट यानी आईटीएमएस प्रोजेक्ट तैयार होगा। इस पर करीब 42 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसके लिए जल्दी ही डीपीआर तैयार किया जाएगा। राज्य स्मार्ट सिटी योजना के तहत इस प्रोजेक्ट के लिए पैसा मिलेगा।
पहले फेज में प्रदेश के सात शहरों में आईटीएमएस योजना पर कार्य शुरू होने जा रहा था। गाजियाबाद शहर इस योजना से बाहर हो गया था। पिछले वर्ष ही शासन छह महानगरों में इस योजना के लिए पैसा दे चुका है।
गाजियाबाद में इस बार राज्य स्मार्ट सिटी योजना के तहत आईटीएमएस योजना पर कार्य होगा। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने बताया कि सबसे पहले इस योजना के तहत शहर के प्रमुख 42 चौराहों और तिराहों लिया जाएगा। इन सभी चौराहों और तिराहों पर यातायात सिग्नल पूरी तरह से सेंसर कंट्रोल होंगे। इस योजना पर अगले वित्त वर्ष में कार्य शुरू होने की योजना है।
इसके पूरा होने के बाद शहर में यातायात नियमों का पालन नहीं करने पर ई-मेल के जरिए चालान की व्यवस्था होगी। इससे सडक़ दुर्घटनाओं पर भी अंकुश लगने की संभावना है।