युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। कल देर शाम नेहरूनगर स्थित ऑडिटोरियम में नगर निगम के 605 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम के लिए पहले ही विकास कार्यों के लोकार्पण और शिलान्यास शिलापट लाइन से लगाए गए थे। इन विकास कार्यों के लोकार्पण का प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ से बटन दबाकर किया। इसके साथ ही गाजियाबाद में आयोजित कार्यक्रम में तालियों की गडग़डहाट के बीच शिलान्यास और लोकार्पण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिन विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया गया, इनमें सबसे बड़े आकर्षण का केंद्र शहर का सबसे बड़ा ऑडिटोरियम था। यह ऑडिटोरियम नगर निगम ने करीब 47 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया। वर्ष 1997 में इस ऑडिटोरियम का शिलान्याय तत्कालीन प्रदेश के राज्य मंत्री बालेश्वर त्यागी ने किया था। कार्यक्रम में मंचासीन लोगों में पूर्व मंत्री बालेश्वर त्यागी भी मौजूद थे।
ऑडिटोरियम के अलावा रमतेराम रोड व्यवसायिक कॉम्पलेक्स, हिंडन विहार और गांव सिहानी स्थित गारबेज फैक्ट्री, अवस्थाना निधि से शहर में होने वाले 170 करोड़ रुपये के विकास कार्य, इंदिरापुरम के सीवरट्रीटमेंट प्लांट पर बनने वाले रिसाइकल वॉटर प्लांट, राज्य स्मार्ट सिटी योजना के अंतर्गत बनने वाली मल्टीलेवल पार्किंग शामिल है। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने मंचासीन वक्ताओं और दर्शकों का अभिवादन किया। उन्होंने बुके देकर मंचासीन लोगों को स्वागत किया।
उन्होंने गाजियाबाद में स्वच्छता से लेकर चल रही तमाम विकास की योजनाओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि जनता के सहयोग के बिना शहर का विकास संभव नहीं है। ऐसे में लोगों को शहर को अपना मानते हुए विकास और स्वच्छता पर सहयोग देना चाहिए।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लखनऊ में आयोजित लोकार्पण कार्यक्रम में मंचासीन मेयर आशा शर्मा थीं। मुख्यमंत्री ने जैसे ही मंच से मेयर आशा शर्मा का नाम लिया यहां कार्यक्रम में तालियां बजाकर दर्शकों ने मुख्यमंत्री का अभिवादन किया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने गाजियाबाद के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास करने के लिए बटन दबाया। इस दौरान गाजियाबाद में स्वच्छता और अन्य विकास योजनाओं पर बनी डाक्यूमेंट्री लघु फिल्म को भी मंच से दिखाई गई। जहां लखनऊ में मौजूद दर्शकों ने इसका स्वागत किया।
इससे पहले गाजियाबाद में आयोजित कार्यक्रम में मंचासीन अतिथियों ने अपने विचार व्यक्त किए। इनमें मुख्य अतिथि वीके सिंह, सांसद अनिल अग्रवाल, राज्य मंत्री अतुल गर्ग, विधायक अजितपाल त्यागी, डीएम आरके सिंह, एसएसपी पवन कुमार, भाजपा महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा, पार्षद राजेन्द्र त्यागी, अनिल स्वामी, और क्षेत्रीय पार्षद राजेन्द्र तितौरिया ने अपने विचार व्यक्त किए।
पूर्व मंत्री बालेश्वर त्यागी ने कहा कि उन्होंने ही इस ऑडिटोरियम का शिलान्यास 25 वर्ष पहले किया था। क्यों इतनी देर हुई है, मैं इस पर जाना नहीं चाहता मगर यह ठीक नहीं है। विकास योजनाओं को समय पर पूरा होना चाहिए। इनकी बात को राज्यमंत्री अतुल गर्ग ने आगे बढ़ाया। उन्होंने कहा कि मुझे पता है कि इस प्रोजेक्ट को पूरा होने में क्यों इतने दिन लगे। दरअसल भाजपा की प्रदेश में सरकार अब आई और इस लिए प्रोजेक्ट अब पूरा हुआ।
विधायक अजितपाल त्यागी ने कहा कि विकास से लोगों को राहत मिलती है। हमारी सरकार बिना किसी पक्षपात के विकास से लोगों को जोड़ती है। ताकी उनके जीवन को और सुकून भरा बनाया जा सके। सांसद अनिल अग्रवाल ने मंच से विपक्ष का नाम लिए बगैर उस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार जब जब आई विकास को गति दी है। दूसरी पार्टी की सरकार केवल बात करती है।
केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने कहा कि भाजपा को छोड़ बाकी सरकार केवल शिलान्यास करती है। भाजपा ऐसी पार्टी है जो शिलान्यास भी करती है और लोकर्पण भी करती है। इसलिए पार्टी की पहुंच जनजन तक है। यहीं थीम पार्टी को महान बनाती है और नेताओं को जनता लोकप्रिय बनाती है। इस दौरान वक्ताओं के भाषण पर बीच बीच में भाजपा जिंदाबाद के नारे लगते रहे। बाद में नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने समापन भाषण दिया। उन्होंने बताया कि नगर निगम ने पिछले एक वर्ष के दौरान क्या खास कार्य किए है। भविष्य में नगर निगम की क्या क्या योजनाएं है। जो लोगों की समस्याओं को दूर कर उन्हें राहत देने का कार्य करेगी। कार्यक्रम के दौरान अतिथियों को पुष्पगुच्छ भेंटकर स्वागत किया गया।