युुग करवट संवाददाता

गाजियाबाद। एक जुलाई से शुरू हुए विशेष अभियान के दूसरे दिन भी लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए मशक्कत करनी पड़ी। वैक्सीन की शॉर्टेज के चलते कम संख्या में लोगों को टीका लग पा रहा है। पहले दिन कई सेंटर्स पर हंगामा हुआ था लेकिन दूसरे दिन भी हालात जस के तस बने हुए हैं।
आन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन कराकर टीका लगवाने के इस अभियान को वैक्सीन की शॉर्टेज पलीता लगा रही है। पहले दिन अभियान के लिए आठ हजार डोज़ मिली थीं तो वहीं शुक्रवार को भी ३१ सेंटर्स के लिए नौ हजार डोज़ मिली हैं। हर सेंटर पर सौ-सौ लोगों को टीका लगवाने का लक्ष्य रखा गया है जबकि लोग सुबह ही बड़ी संख्या में वैक्सीन लगवाने के लिए सेंटर पर पहुंच रहे हैं। वैक्सीन की उपलब्धता को देखते हुए पहले आओ, पहले पाओ की नीति अपनाई जा रही है। सुबह में पहले टोकन दिए जाते हैं। उसके बाद वैक्सीन लगाई जा रही है लेकिन भीड़ के आगे सारे इंतजाम नाकाफी साबित हो रहे हैं। संयुक्त जिला अस्पताल में सुबह से ही वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों की भीड़ लगनी शुरू हो गई थी। लेकिन निर्धारित कोटा होने के चलते बड़ी संख्या में लोगों को वापस लौटना पड़ा। उसके बाद भी लोगों की मुश्किलें कम नहीं हो पाईं क्योंकि नेटवर्क की दिक्कत आने की वजह से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन तक नहीं हो पा रहा था। इस कारण कड़ी धूप में लोगों को घंटों तक इंतजार करना पड़ा। लोगों ने आरोप लगाया कि रोजाना ही कोई ना कोई दिक्कत आ रही है जिसकी वजह से वैक्सीन लगवाने के लिए कई दिनों तक चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।
अन्य सेंटर्स पर भी वैक्सीन की शॉर्टेज के चलते लोगों में आक्रोष बढ़ रहा है। लोगों का कहना है कि जब वैक्सीन नहीं है तो विशेष अभियान चलाने की जरूरत क्या है। सामान्य श्रेणी में ही वैक्सीन लगनी चाहिए।