युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। आधी-अधूरी तैयारी और कम वैक्सीन के साथ शुरू किए गए १८ वर्ष से ऊपर आयु वर्ग के टीकाकरण का ड्राइव शुरू होते ही टीकाकरण सेंटर पर खासी भीड़ तो पहुंच रही है। लेकिन बड़ी संख्या में लोगों को स्लॉट मिलने के बाद भी वापस लौटना पड़ रहा है। यहां तक कि कई सेंटर्स पर वैक्सीन नहीं है तो लोगों को वापस भेजा जा रहा है जबकि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में उन्हें स्लॉट टाइम भी दिया गया है। कई वैक्सीन सेंटर पर यह स्थिति बनी हुई है।
हालांकि, इसके बाद भी लोग लगातार वैक्सीन लगवाने के लिए पहुंच रहे हैं। सरकारी व्यवस्थाओं को लेकर लोगों में नाराजग़ी भी दिखाई दे रही है। लोगों का कहना है कि जब पर्याप्त संख्या में वैक्सीन उपलब्ध नहीं थी तो लोगों को स्लॉट क्यों दिए जा रहे हैं। १८ वर्ष से ऊपर आयु वर्ग के लिए जिले में १६ सरकारी वैैक्सीन सेंटर बनाए गए थे लेकिन इसमें से महज दस सेंटर्स पर ही वैक्सीन ड्राइव शुरू हो सका है। अन्य सेंटर्स पर या तो ताला लगा है या फिर वैक्सीन न होने के कारण लोगों को वापस भेजा जा रहा है।
संजयनगर स्थित संयुक्त अस्पताल में भी सुबह से वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ रही है। भीड़ को देखते हुए सेंटर कर्मियों ने तीन अलग-अलग लाइन लगवाईं व बेरिकेट भी कराया ताकि लोग सोशल डिस्टेंस से लाइन में लग सकें। १८ वर्ष से ऊपर के लोगों के लिए अलग लाइन, ४५ वर्ष से ऊपर व दूसरी डोज़ वालों के लिए अलग लाइन और महिलाओं के लिए अलग से लाइन लगवाई जा रही है। हालांकि, हर सेंटर पर १८ वर्ष से ऊपर वालों के लिए दो सौ लोगों को चिन्हित किया गया है लेकिन अन्य कैटेगरी के लोगों की भी भीड़ बहुत है। लोग कड़ी धूप में लाइन में लगे हुए हैं और लाइन भी अस्पताल के गेट तक पहुंची हुई है लेकिन फिर भी लोग वैक्सीन लगवाने के लिए अपनी बारी के इंतज़ार में खड़े हुए हैं। कई केंद्रों पर तो दो सौ लोगों की संख्या पूरी होने के बाद अन्य लोगों को लौटाया जा रहा है जबकि उन्हें स्लॉट आंवटित किया गया है। वैक्सीनेशन सेंटर पर लोगों की अच्छी खासी भीड़ पहुंच रही है।