युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। वेबसिटी के किसानों ने आज जीडीए पर प्रदर्शन किया। इसकी अगुवाई भारतीय किसान संगठन के जिलाध्यक्ष लोकेशन नागर ने की। इस दौरान बड़ी संख्या में किसानों ने जीडीए पर प्रदर्शन किया। बाद में संगठन की ओर से एक ज्ञापन जीडीए वीसी कृष्णा करुणेश को दिया गया। जिसमें जीडीए से बिल्डर का वेबसिटी विकसित करने के लिए दिया गया लाइसेंस रद्द किया गया। ज्ञापन में मुख्य रूप से चार मांग की गई। पहली मांग है कि बिल्डर का लाइसेंस रद्द किया जाए। इसके अलावा किसानों को बची करीब 80 प्रतिशत जमीन का डीएम द्वारा तय जमीन के सर्किल रेट का चार गुना देने, बिल्डर और किसानों के बीच 2014 में समझौते को जीडीए लागू कराए।
इसके अलावा सभी किसानों को उनकी ली जाने वाली जमीन के आठ प्रतिशत हिस्से को प्लॉट के तौर पर विकसित कर देने की मांग की गई है। ज्ञापन में कहा गया है कि बिल्डर और किसानों के बीच 2014 में जीडीए की मध्यस्थता में एक समझौता हुआ था। इसे आज तक लागू नहीं किया गया है। जो जमीन ली जा रही है उसका रेट बढ़ाया जाए। आरोप है कि बिल्डर जो किसान जमीन नहीं देना चाहता है उससे भी जबरन कब्जा लिया जा रहा है।
ज्ञापन देने वालों में नितिन प्रधान, प्रदीप नागर, अमित कुमार, जीतपाल नागर, नितिन वर्मा, अमित शर्मा, लोकेशन नागर, प्रदीप शर्मा आदि किसान मौजूद रहे।