युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। कृषि कानूनों के विरोध में पिछले एक साल से किसान आंदोलन का प्रमुख चेहरा और भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत को 21वीं सदी के आइकन अवार्ड-2021 के लिए चुना गया है। यह पुरस्कार ब्रिटेन के स्कवॉयर वाटरमेलन द्वारा दिया जाता है। लंबा आंदोलन चलाने और आंदोलन को जीवंत रखने की वजह से उन्हें इस पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है। लंदन में 10 दिसंबर को विजेताओं की घोषणा की जाएगी। लंदन की स्क्वेयरड वाटरमेलन कंपनी दुनिया के लिए मिसाल बनने वाली शख्सियतों को हर साल आइकॉन अवॉर्ड देती है। इसी कड़ी में 2021 के अवॉर्ड के लिए नामांकन लिस्ट में किसान नेता राकेश टिकैत का नाम भी शामिल किया गया है। राकेश टिकैत का जन्म मुजफ्फरनगर जनपद के सिसौली गांव में 4 जून 1969 को हुआ था। उनकी पहचान ऐसे व्यवहारिक नेता की रही है जो धरना-प्रदर्शनों, आंदोलनों के साथ-साथ किसानों के व्यवहारिक हित की बात सरकार के सामने रखते रहे हैं। तीन कृषि कानूनों और अन्य मांगों को लेकर पिछले एक साल से किसान आंदोलन चल रहा है। जिसकी अगुवाई राकेश टिकैत कर रहे हैं। हालांकि किसानों के लंबे आंदोलन के बाद केंद्र सरकार ने हाल ही में कृषि कानून वापिस ले लिए हैं, इसके बाद भी राकेश टिकैत किसानों की अन्य मांगों को लेकर मुखर हैं। इससे पहले पाश्र्व गायक सोनू निगम, शंकर महादेवन, फैशन के लिए राघवेंद्र राठौर, तकनीकि क्षेत्र के लिए धीरज मुखर्जी को यह अवार्ड मिल चुका है।