गाजियाबाद (युग करवट)। व्यापारी व केबी ग्रुप के मालिक विवेक यादव ने अपने ऊपर दर्ज मुकदमों को लेकर मीडिया के सामने अपना पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि साहिबाबाद क्षेत्र में उनकी मां का सवा बीघा का एक प्लॉट है जिसकी वर्तमान कीमत १५ से २० करोड़ है। विवेक ने अपने मामा और भाई पर इस प्लॉट की फर्जी तरीके से ने पॉवर अटार्नी कराने का आरोप लगाया और कहा कि एक रिट भी इस फर्जी दस्तावेज के सहारे उनकी मां के नाम से हाईकोर्ट में डाल दी। इस मामले का खुलासा होने पर रिपोर्ट दर्ज कराई गई। इसके बाद उनके अपार्टमेट्स में ही रहने वाले एक व्यक्ति ने मेंटीनेंस मांगने के नाम पर विवाद शुरू कर दिया और उनके परिजनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी। इसके बाद उन्होंने भी नीरज के खिलाफ कोर्ट के माध्यम से मेंटीनेंस रोकना, विवाद करना, झूठी रिपोर्ट दर्ज कराने का मामला दर्ज कराया जो अभी कोर्ट में विचारधीन है। फर्जी पॉवर ऑफ अटार्नी के खिलाफ मार्च २०२२ में मुकदमा दर्ज कराया था। विवेक ने आरोप लगाया है कि तब से ही उनके ममेरे भाई नीरज कुमार के साथ मिलकर उनके परिवार के खिलाफ साजिश चल रहा है। उन्हें फोन पर मुकदमे वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है। विवेक यादव ने बताया कि करीब १५ सालों से भाई और मामा के साथ उनके कोई सम्बंध नहीं है। इसके चलते सितम्बर में ही उन्होंने दोनों के परिवारों से अपने सम्बंध विच्छेद भी कर दिए थे। इस मौके पर अधिवक्ता पंकज त्यागी भी मौजूद रहे।