युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। प्रदेश में बीजेपी सरकार है। निगम में भी बीजेपी का जलवा है। बावजूद इसके नगर निगम में बीजेपी के पार्षद परेशान है। इसकी बानगी एक बार फिर से देखने को मिली। बीजेपी पार्षद हिमंाशु मित्तल ने आरोप लगाया कि उन्होंने कई बार निगम से विज्ञापन की पत्रावली दिखाने के लिए कहा है। बावजूद इसके नगर निगम प्रशासन के अधिकारी पत्रावली नहीं दिखा रहे है। हाल ही में नगर निगम ने शहर में एक साथ ही 15 वर्ष के लिए विज्ञापन का ठेका छोड़ा है। जिसको लेकर विवाद चल रहा है। इसी विवाद के चलते गत दिनों बीजेपी पार्षद हिमांशु मित्तल की ओर से निगम के खिलाफ एक रिट हाईकोर्ट में फाइल की गई है। इसकी सुनवाई जल्दी ही होने वाली है। पार्षद मित्तल का आरोप है कि नगर निगम ने इस पत्रावली को ताले के अंदर बंद कर दिया है। ऐसे में कई बार वह पत्रावली को अध्ययन के लिए मांग चुके है। इसके बाद भी नगर निगम प्रशासन पत्रावली उनको नहीं दिखा रहे है। जबकि वह निगम से ही पार्षद है।