नोएडा (युग करवट)। टोबैको कंपनी के मैनेजमेंट के साथ सांठगांठ कर करोड़ों की कर चोरी को अंजाम दिलवाने वाले वाणिज्य कर अधिकारियों खिलाफ हुई कार्रवाई से गौतम बुद्ध नगर वाणिज्य कर विभाग में तैनात अफसरों की नींद हराम हो गई है। बताया जाता है कि इस गोरखधंधे में 17 अधिकारी संलिप्त हैं, जिनकी विजिलेंस और विभागीय जांच भी चल रही है। उक्त जांच के लिए उत्तर प्रदेश शासन ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम गठित किया है। जिसके आधार पर गौतम बुद्ध नगर में तैनात अतिरिक्त आयुक्त धर्मेंद्र सिंह, संयुक्त आयुक्त दिनेश दुबे, उपायुक्त मिथिलेश मिश्रा और सहायक आयुक्त सोनिया श्रीवास्तव को शासन ने कल निलंबित कर दिया है।
इस मामले में 17 अधिकारियों की संलिप्तता पाई गई है। जल्द ही अन्य अधिकारियों खिलाफ भी कार्रवाई होने की संभावना है। उत्तर प्रदेश शासन द्वारा निलंबित किए गए तीन अधिकारी धर्मेंद्र सिंह, दिनेश दुबे तथा सोनिया श्रीवास्तव अभी गौतम बुद्ध नगर में ही तैनात हैं। व्यापार कर विभाग के सूत्रों के अनुसार इन लोगों ने करोड़ों रुपए का कर अपवंचन में अहम भूमिका निभाई है। बताया जाता है कि टोबैको कंपनी के कर्ताधर्ताओ ने इनके साथ मिलीभगत कर कई बड़े खेल किए हैं। अगर ठीक से जांच हुई तो कई लोग और भी इसमें बेनकाब हो सकते हैं। सूत्रों का दावा है कि गौतम बुद्ध नगर में स्थित तंम्बाकू, जर्दा व पान मसाला बनाने वाली कई कंपनियां वाणिज्य कर विभाग के अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर, करोड़ों रुपए का कर हर माह चोरी कर रही है।