युग करवट संवाददाता
नोएडा। वर्चुअल करेंसी में आनलाइन निवेश करवा कर लाखों रुपए का मुनाफा कमाने का लालच देकर अज्ञात साइबर ठगों ने एक व्यक्ति के साथ 12 लाख 73 हजार रुपये की ठगी कर ली। मामले की शिकायत पीडि़त ने सेक्टर-36 स्थित साइबर क्राइम थाने में की है। मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। पीडि़त को एक वाट्सएप गु्रप में जोडऩे के बाद उसके साथ ठगी की गई।
यूपी साइबर क्राइम थाना सेक्टर-36 की प्रभारी निरीक्षक रीता यादव ने बताया कि सेक्टर-93 निवासी नीतीश लांबा को बीते वर्ष आनलाइन ट्रेडिंग नाम से संचालित वाट्सएप गु्रप पर जार्ज नामक व्यक्ति ने जोड़ दिया। जार्ज ने नीतीश को बताया कि बिटकॉइन वर्चुअल करेंसी में अगर वह पैसा लगाएगा तो उसे सीमित अवधि में ही दोगुना का लाभ मिलेगा। इसी क्रम में खुद को जार्ज की सेक्रेटरी बताने वाली एलीन ने नीतीश से संपर्क कर गु्रप में बिजनेस कराने का झांसा दिया। इसके बाद पहली बार में एलीन के कहने पर 350 यूएस डालर यानि लगभग साढ़े 27 हजार रुपये नीतीश ने लगा दिए।
इस पर 112 यूएस डालर यानि 8700 रुपये का मुनाफा हुआ। इसके बाद उसने 2000 यूएस डालर यानि करीब एक लाख 56 हजार रुपये लगा दिए तो इस बार मुनाफा नहीं हुआ। अलग-अलग तरीके से मुनाफा कराने के नाम पर पीडि़त से 12 लाख 73 हजार रुपये की ठगी कर ली गई। पीडि़त ने बताया कि आरोपितों ने अलग-अलग ग्रुप बनाकर कई लोगों से लाखों की ठगी की है। साइबर क्राइम थाने की प्रभारी रीता यादव ने बताया कि अगर कोई भी अनजान व्यक्ति किसी को इंटरनेट मीडिया के विविध प्लेटफार्म पर संपर्क करता है और व्यापार के नाम पर मुनाफा कमाने की बात कहता है तो तुरंत इसकी जानकारी संबंधित कोतवाली पुलिस या साइबर क्राइम थाने में दें।
उन्होंने कहा कि आजकल साइबर क्राईम थाना की पुलिस विभिन्न सेक्टरों और वाणिज्यिक संस्थानों में जाकर लोगों को साइबर अपराध से बचने के लिए जागरूक कर रही है। उन्होंने बताया कि अगर कोई व्यक्ति साइबर क्राइम का शिकार हो गया है, तो पुलिस को तुरंत सूचना दें ,ताकि अपराधियों को पकड़ा जाए और अन्य लोगों को साइबर क्राइम से बचाया जा सके।