नई दिल्ली (युग करवट)। देश में लोकसभा चुनाव के लिए पोस्टल-बैलेट वोटिंग की प्रक्रिया शुरू हो गई है। निर्वाचन आयोग के निर्देश पर कुछ चुनिंदा सरकारी सेवाओं के कर्मचारियों के अलावा, अपने गृह नगर से दूर रहने वाले नागरिक, सीनियर सिटिजन्स, दिव्यांग और 85 साल से अधिक आयु वर्ग के मतदाता, सैन्यकर्मियों के लिए पोस्टल बैलेट से मतदान की सुविधा उपलब्ध करायी गई है। देश के अलग-अलग राज्यों में चुनावकर्मी पोस्टल बैलेट से वोटिंग करने के लिए पात्र मतदाताओं की पहचान करके उनके घर पहुंच रहे हैं और उनका मत डलवा रहे हैं। सरकार ने डाक पत्रों के जरिए वोटिंग करने के लिए वरिष्ठ नागरिकों की उम्र सीमा 80 से बढ़ाकर 85 वर्ष करने का फैसला पिछले 11 विधानसभा चुनावों में बुजुर्गों के वोटिंग पैटर्न को ध्यान में रखते हुए लिया था। इन चुनावों में 80 साल से ऊपर के 97 से 98 फीसदी मतदाताओं ने पोस्टल बैलेट की बजाय पोलिंग बूथ पर जाकर अपने मताधिकार का प्रयोग करना पसंद किया था।