युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। जीडीए अब ऐसे अवैध निर्माण की जांच कराएगा जिनको लॉकडाउन से पहले ही सील किया गया था। यह सील किसने हटाने का कार्य किया है। क्या अवैध निर्माण को खुद ही लोगों ने हटाने का कार्य किया है। दरअसल, लॉकडाउन से पहले इस मामले में शासन की ओर से एक आदेश आया था जिसमें अवैध निर्माण पर वीकली रिपोर्ट देने को कहा गया था। अंतिम बार रिपोर्ट में बताया गया था कि शहर में जीडीए ने 372 अवैध निर्माण को चिन्हित कर उनको सील किया है। इसके बाद शहर में कोरोना का प्रकोप बढ़ गया। इस कारण जीडीए के अधिकारियों की ड्यूटी अवैध निर्माण से हटाकर दूसरे कार्यों में लगा दी गई और लॉकडाउन लगा दिया गया। ऐसे में अवैध निर्माण की कई महीनों तक समीक्षा तक नहीं हो पाई है। अब पता चला है कि जो अवैध निर्माण की सील जीडीए ने पहले लगाई थी, वह दस्तावेजों में है। इसी के चलते अब जीडीए एक बार फिर से गंभीर हो गया है और अब पूर्व में सीलिंग किए गए प्रकरणों की जीडीए जांच करेगा।