युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। नगर निगम के लाइट विभाग द्वारा हाल ही में सामान की आपूर्ति के लिए टेंडर को लेकर विवाद हो गया है। टेंडर एक खास कंपनी को देने के लिए नगर निगम ने उसमें एक शर्त लगा दी है कि नगर निगम उसी कंपनी का माल लेगा जिसमें अपनी लैब होगी। उस कंपनी का माल नगर निगम नहीं लेगा, ना ही ऐसी कंपनी टेंडर में हिस्सा लेगी जिसके पास अपनी लैब नहीं होगी। नगर निगम द्वारा लगाई गई इस शर्त को लेकर अब नया विवाद पैदा हो गया है। इस प्रकरण में पार्षद हिमांशु मित्तल ने नगर निगम को एक पत्र लिखकर आपत्ति दर्ज की है। गौरतलब है कि हाल ही में नगर निगम के लाइट विभाग में सामान की कमी चल रही है जिसके कारण शहर भर में लाइट को ठीक करने का काम भी प्रभावित हो रहा है। ऐसे में नगर निगम ने हाल ही में सामान की आपूर्ति के लिए टेंडर मांगा है।
यह टेंडर 4 अगस्त को खोला जाएगा लेकिन इस टेंडर में नगर निगम द्वारा लगाई गई एक शर्त को लेकर विवाद भी पैदा हो गया है। पार्षद हिमांशु मित्तल द्वारा भेजे गए पत्र में कहा गया है कि नगर निगम ऐसी शर्त नहीं लगा सकता जिससे टेंडर किसी एक कंपनी को जाने की आशंका हो। उनका कहना है कि क्वालीटि को मेंटेन करने के लिए ज्यादातर कंपनी बाहर की लैब से अपने माल को टेस्ट कराती हैं ताकि टेस्टिंग के दौरान पारदर्शिता बरती जा सके। उन्होंने आरोप लगाया कि नगर निगम माल खरीद का टेंडर एक कंपनी को देने के लिए खेल कर रहा है। उन्होंने नगर आयुक्त से इस प्रकरण की जांच करने के आदेश दिए हैं।