युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। लखीमपुर खीरी की घटना के विरोध में अधिवक्ता संघर्ष समिति ने पुतला फूंक कर जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। अधिवक्ताओं ने डीएम के माध्यम से राष्टï्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की है।
चौधरी चरण सिंह की प्रतिमा से पैदल चलकर जिला मुख्यालय परिसर पहुंचे और गेट पर पुतला फंूक कर विरोध जताया। वरिष्ठ अधिवक्ता नाहर सिंह यादव ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार दस महीने से आंदोलन को कुचलने का प्रयास कर रही है। गृह राज्यमंत्री के निर्देश पर उनके बेटे ने साजिश कर बेकसूर किसानों को कुचलकर उनकी हत्या कर दी। साजिश के तहत केंद्र व प्रदेश सरकार प्रजातंत्र को समाप्त करना चाहती है। हत्या के बाद भी ३०४ ए आईपीसी में आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। अधिवक्ता किसान परिवारों से जुड़े हुए हैं। ऐसे में इस घटना की निंदा करते हैं। समिति ने अपने ज्ञापन में मांग की है कि मंत्री और उसके पुत्र पर ३०२ के तहत मामला दर्ज किया जाए। मामले की जांच सीबीआई व उच्चतम न्यायालय के वर्तमान जज की देखरेख में कराई जाए। यूपी व हरियाणा सरकार को तत्काल बर्खास्त किया जाए। जिले से अधिवक्ताओं का एक प्रतिनिधिमंडल पीडि़त परिवार से मुलाकात कर अपनी संवेदना व्यक्त करेगा। ज्ञापन देने वालों में विशाल शर्मा, कुंवर अयूब अली, रमेश यादव, आनंद, साजिद अली व सुनील कुमार आदि अधिवक्ता शामिल थे।