युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। इस बार रामनवमी पर्व पर जंयती योग बन रहा है। रविवार को दस अप्रैल को रामनवमी है जिस दिन पुष्य नक्षत्र योग बन रहा है। यानि इस बार रवि पुष्य योग में रामनवमी पर्व मनाया जाएगा। पुष्य नक्षत्र भगवान राम की कुंडली में भी था। कर्क के चंद्रमा अपनी राशि के बहुत उत्तम स्थिति में हैं। सुकर्मा योग धन-धान्य की पूर्णता देने वाला है। इसलिए यह पर्व इस वर्ष अति उत्तम ग्रह स्थिति में बन रहा है। पंडित शिवशंकर शर्मा ने बताया कि इस बार रामनवमी का उत्सव पूजन का सबसे उत्तम मुहुर्त अभिजीत मुहूर्त है। जंयती योग अभिजीज मुहूर्त रविवार को सुबह ११.३६ से १२.३४ तक रहेगा। इसके बाद ११.५९ से दोपहर २.१९ तक कर्क लग्न रहेगा जो बहुत ही श्रेष्ठ है। भगवान राम का जन्म दिन रविवार को मध्यान्ळ १२ बजे यानि अभिजीत मुहूर्त में ही हुआ था। पुष्य नक्षत्र उस दिन विराजमान था और इस बार भी वही योग बन रहा है। जिसके चलते इस बार रामनवमी पर्व को लेकर भक्तों में खासा उत्साह है। दुर्गा नवमी भी रविवार को होगी। जहां भक्ता मां दुर्गा की विदाई के साथ भगवान राम का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाएंगे।