युग करवट संवाददाता
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अब बेटियों को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत 25 हजार रुपये की सहायता देगी। अभी इस योजना में बेटियों के पैदा होने से लेकर उनकी पढ़ाई तक छह अलग-अलग चरणों में 15 हजार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती रही है।
भाजपा के संकल्प पत्र के इस वादे को पूरा करने के लिए महिला कल्याण विभाग ने इसे 100 दिनों की कार्ययोजना में शामिल कर लिया है। जल्द ही विभाग मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का प्रस्ताव कैबिनेट की मंजूरी के लिए भेजेगा। कन्या सुमंगला योजना बेटियों के लिए एक सुरक्षा कवच है।
इस योजना के तहत बेटियों को जन्म से लेकर उनकी उच्च शिक्षा तक की पढ़ाई के बीच छह अलग-अलग श्रेणियों में सरकार एक हजार रुपये से लेकर पांच हजार रुपये तक की आर्थिक सहायता प्रदान करती है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ चाहते हैं कि बालिकाओं के जन्म को समाज एक उत्सव के रूप में मनाएं। योगी सरकार 1.0 की कन्या सुमंगला योजना की सफलता को देखते हुए भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में इस योजना में मिलने वाली आर्थिक सहायता राशि को 25 हजार रुपये करने का वादा किया था। महिला कल्याण विभाग भाजपा के इस वादे को पूरा करने में जुट गया है। इसके अलावा निराश्रित महिला पेंशन पाने वाली महिलाओं को वित्तीय वर्ष 2022-23 के पहली तिमाही की पेंशन भी उनके खाते में भेजी जाएगी। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के नए मैनेजमेंट इंफारमेशन सिस्टम (एमआइएस) पोर्टल का शुभारंभ भी 100 दिनों की कार्ययोजना में शामिल है।