युग करवट संवाददाता
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई अहम फैसले लिये हैं। जहां आज सुबह कैबिनेट में १४ प्रस्तावों पर मुहर लगी वहीं प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मंत्रणा कर कई दिशा निर्देश जारी किये गये।

धार्मिक परिसर से बाहर न आए आवाज, बिना अनुमति जुलूस और धार्मिक यात्रा पर पाबंदी
लखनऊ। हनुमान जयंती पर देश के कई शहरों में शोभायात्रा के दौरान हुए बवाल के बाद और आने वाले त्यौहारों पर प्रदेश में किसी तरह के बवाल को रोकने के लिए योगी सरकार ने कई सख्त आदेश जारी किए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में बिना अनुमति जुलूस या किसी तरह की शोभायात्रा पर रोक लगाने के साथ ही लाउडस्पीकर की आवाज को धार्मिक स्थल तक सीमित रखने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री सचिवालय की ओर से सभी जिलाधिकारियों को भेजे निर्देश में कहा गया है कि किसी भी धार्मिक स्थल पर नए रूप से लाउडस्पीकर लगाने की इजाजत न दी जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि अपनी धार्मिक विचारधारा के अनुसार सभी को अपनी उपासना पद्धति को मानने की स्वतंत्रता है। माइक का प्रयोग किया जा सकता है, लेकिन यह सुनिश्चित हो कि माइक की आवाज धार्मिक परिसर से बाहर नहीं आनी चाहिए। यही नहीं योगी के आदेश में कहा गया है कि नए स्थलों पर माइक लगाने की अनुमति न दें।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि आने वाले दिनों में कई महत्वपूर्ण धार्मिक पर्व-त्योहार हैं। रमजान का महीना चल रहा है। ईद का त्योहार और अक्षय तृतीया एक ही दिन होना संभावित है। ऐसे में वर्तमान परिवेश को देखते हुए पुलिस को अतिरिक्त संवेदनशील रहना होगा। थानाध्यक्ष से लेकर एडीजी तक अगले 24 घंटे के भीतर अपने-अपने क्षेत्र के धर्मगुरुओं, समाज के अन्य प्रतिष्ठित जनों के साथ सतत संवाद बनाएंगे।
मुख्यमंत्री योगी ने तहसीलदार, एसडीएम, थानाध्यक्ष, सीओ सभी को अपनी तैनाती के क्षेत्र में ही रात्रि विश्राम करने के निर्देश दिए है। शासकीय आवास है तो वहां रहें अथवा किराए का आवास लें, लेकिन रात्रि में अपने ही क्षेत्र में रहें। इस व्यवस्था का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाना होगा। संवेदनशील क्षेत्रों में अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती की जाए। ड्रोन का उपयोग कर स्थिति पर नजर रखें। हर दिन सायंकाल पुलिस बल को फुट पेट्रोलिंग करने के निर्देश दिए।

पहली कैबिनेट बैठक में 14 प्रस्तावों पर लगी मुहर
लखनऊ। प्रदेश की भाजपा सरकार के दूसरे कार्यकाल की पहली कैबिनेट बैठक आज हुई। एनेक्सी में आयोजित इस बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। फैसलों की जानकारी उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक, वित्त मंत्री सुरेश खन्ना व पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह ने दी। कैबिनेट बैठक में पर्यटन विभाग के 4 बड़े प्रस्तावों पर मुहर लग गई है।
इनमें आगरा, मथुरा और एटा में हेलीपैड बनेंगे। साथ ही लैब टेक्नीशियन के पदों पर 25 फीसदी कर्मचारियों को पदोन्नति देने का फैसला लिया गया है। कैबिनेट बैठक में पुखरायां, घाटमपुर मार्ग के लिए वित्तीय स्वीकृति दी गई है। लखनऊ में एनसीडीसी के लिए मंजूरी भी दी गई है।
केजीएमयू में पुराने अधीक्षक आवास और सर्वेंट क्वार्टर के ध्वस्तीकरण का प्रस्ताव को भी कैबिनेट में मुहर लग गई है। प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने कैबिनेट बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी देते हुए कहा कि आयुर्वेद संस्थान के लिए जमीन का प्रस्ताव पास कर दिया गया है। इसके अलावा होमगार्ड्स अनुभाग में पिस्टल खरीद का प्रस्ताव को भी स्वीकृति मिली है। उन्होंने कहा कि अब 10 करोड़ तक के कार्य राज्य पर्यटन विभाग करेगा। साथी ही
अलकनंदा और भागीरथी में विकास कार्य कराने का प्रस्ताव भी पास किया गया है। अलकनंदा गेस्ट हाउस उत्तराखंड परिसर में 3000 वर्गमीटर गेस्ट हाउस पर्यटन विकास निगम को हस्तांरित किया जाएगा। नोएडा पीजीआई के लिये 56 एकड़ जमीन निशुल्क दी जाएगी। इस जमीन के लिए ऑथरिटी ने 400 करोड़ से अधिक मांगा था। इसे नि:शुल्क देने पर सहमति बनी है। गोपन में भी अपर मुख्य सचिव का पद मंजूरी मिली गई है। अब न्यायिक पदों पर 4 प्रतिशत दिव्यांग को आरक्षण मिलेगा।