लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानमंडल के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन यानि आज 16 दिसंबर को चालू वित्तीय वर्ष का दूसरा अनुपूरक बजट तथा 2022-23 के लिए लेखानुदान पेश किया गया।
दिन में 11 बजे सदन की बैठक शुरु होने पर विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित द्वारा बजट की अनुपूरक मांग और लेखानुदान का प्रस्ताव पटल पर रखने के आदेश दिए। जिस पर वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने अनुपूरक बजट सदन में पेश किया। इस पर समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस के सदस्यों ने केंद्रीय गृहराज्य मंत्री टेनी की बर्खास्तगी की मांग पर नारेबाजी शुरु कर दी। नारेबाजी कर रहे सदस्यों से विधानसभा अध्यक्ष की ओर से शांति बनाये रखने और सदन की कार्यवाही को सुचारु बनाने की बार बार अपील की गयी। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही प्रतिपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी ने चंदौली और लखीमपुर खीरी की घटना पर चर्चा की मांग की।दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू होते ही जमकर हंगामा शुरू हो गया। हंगामे के बीच वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने अनुपूरक बजट और लेखानुदान पेश किया। 2022-23 के एक भाग के लिए लेखा अनुदान को पेश करते समय विपक्ष की ओर से जमकर शोर किया गया। सदन में 8 हजार 479 करोड़ का अनुपूरक बजट सदन के पटल पर रखा गया। जबकि एक लाख 68 हजार 903 करोड़ रुपए का लेख अनुदान पेश किया। योगी सरकार के कार्यकाल का यह अंतिम बजट है। इसके बाद विधानसभा चुनाव के बाद पूर्ण बजट पेश किया जाएगा। चुनाव से पहले अनुपूरक बजट पेश करने का प्रावधान है। मंत्री सुरेश खन्ना ने कई अध्यादेश पेश किए, इनमें यूपी माल और सेवा कर संशोधन अध्यादेश 2021, यूपी मोटरयान कराधान संशोधन अध्यादेश 2021, अधिवक्ता कल्याण निधि संशोधन अध्यादेश 2021 शामिल है। इस बीच सपा विधायक राजेंद्र चौधरी ने कहा कि भाजपा सरकार लोगों की हत्या कर रही है। फर्जी एनकाउंटर कर रही है। इस पर बहस होनी चाहिए।