युग करवट ब्यूरो
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में सियासी ड्रामा एकदम हाई है। समाजवादी पार्टी के विधायकों ने विधानसभा में धरना देने की घोषणा की तो पुलिस ने उन्हें घर पर नजरबंद कर लिया। समाजवादी पार्टी ने विधानमंडल सत्र से पहले आज से 18 सितंबर तक प्रतिदिन प्रदेश सरकार के खिलाफ विधान भवन में प्रदर्शन का निर्णय लिया है, लेकिन प्रदर्शन से पहले ही सपा विधायकों को नजरबंद कर दिया गया।
सुबह से ही सपा विधायकों के घर के बाहर पुलिस तैनात कर दी गई। मानसून सत्र से पहले समाजवादी पार्टी ने महंगाई, बेरोजगारी, कानून व्यवस्था, किसानों आदि की समस्याओं को लेकर सपा विधायकों को चौधरी चरण सिंह की प्रतिमा के समक्ष प्रदर्शन करना था। प्रदर्शन से पहले ही सपा विधायकों के घर के बाहर पुलिस का पहरा लगा दिया गया है। सपा का आरोप है कि विधायकों को घर से निकलने नहीं दिया जा रहा है। पार्टी ने इसकी घोर निंदा की है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ट्वीट कर सरकार पर तमाम आरोप लगा रहे हैं।
समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर यूपी की योगी सरकार पर जमकर हमला बोला। कहा कि योगी जी आप पुलिस और सत्ता के बल तथा तानाशाही करके जनहित के मुद्दे पर धरना प्रदर्शन करने वाले विपक्षी विधायकों और कवरेज करने वाले मीडिया बंधुओं को तो रोक सकते हैं लेकिन कल जब जनता का हुजूम सडक़ों पर उतरेगा तो आप क्या करेंगे। सपा विधानमंडल दल के मुख्य सचेतक मनोज पांडेय ने बताया था कि सपा विधायक यूपी में ध्वस्त कानून व्यवस्था, बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी, पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ हुए फर्जी मुकदमे, सूखा संकट, गन्ना किसानों के बकाया भुगतान, किसानों की आत्महत्या समेत अन्य मुद्दों को लेकर 18 सितंबर तक प्रतिदिन 11 बजे से दो बजे तक धरना देंगे।